Skip to main content

Reality of Time(समय की वास्तविकता) by Neeraj Kumar

 

                           समय की वास्तविकता

वास्तविकता

कहते है दुनिया में समय किसी के हाथ में नहीं  है जो उसे पकड सके, समय अपनी निरंतर गति से चलता रहता है| भगवान को भी समय के साथ ही चलना पढ़ा था, जो आज भी दुनिया में समय की व्याख्या को बताने की कोशिश समय समय पर करते रहते है| कब किसको क्या करना चाहिए ये उसका समय ही बताता है| समय की गति कभी नहीं रुकती ये निरंतर चलती रहती है| 

समय का विचार

जब से इस सृष्टि की रचना हुई है, तब से समय अपनी निश्चित गति से चल रहा है| और इसी तरह चलता रहेगा| समय की अवधि में ना जाने कितने काल बीत गये, लेकिन समय की गति कभी नहीं रुकी| दुनिया की कोई ऐसी शक्ति नहीं, जो समय की गति को रोक सके और उसे चुनौती दे सके| हर इन्सान के आने और जाने का समय निश्चित है वो इस दुनिया में अपना जीवन का कितना समय  बिताता है ये उसका समय ही निर्धारित करता है| 

समय का महत्व

जो इंसान समय का सदुपयोग करता है वो कभी जीवन में असफल नही हो सकता। समयनुसार उसके सभी काम होते चले जाते है। हमने कुछ ऐसे भी इंसान देखे होंगे जो समय से पहले कुछ कार्यो को करना पसंद करते है और कुछ ऐसे इंसान भी होते है जो समय से बहुत ज्यादा देर कार्य करते है। ना समय से पहले उस कार्य की कद्र होती है ना समय के बाद उस कार्य की कद्र होती है सिर्फ और सिर्फ समयनुसार ही हर कार्य की कद्र होती है।इस लिए समय का सदुपयोग ही समय की वास्तविकता कहलाता है।

  1. जैसे इंसानों के द्वारा किसी वस्तु का निर्माण किया जाता है उस निर्माण कार्य में जितना भी समय लगा वो उसकी वास्तविकता को बताता है जैसे एक बच्चे को बड़े होने के लिए कुछ वर्षो का समय बिताना पढता है, वो उसकी वास्तविकता है| उसी तरह दुनिया के बहुत से महान इंसानों ने समय की गर्णा को समझा और समय की उत्पति पर अपना घ्यान केन्द्रित किया| और बहुत सी विद्या को उजागर किया| जिसके मूल्यों को आज के इंसानों ने समझा और उसको अपनाया और कई तरह की रचनाओ का अविष्कार किया| जो हमारे जीवन की रुपरेखा को निर्धारित करता है जो इन्सान समय की वास्तविकता को पहचान लेता है वो दुनिया में एक ऐसी पहचान बनाता है जिसको युगों तक याद किया जाता हो| 
  2. हम आज भी कई विद्यायो के जरिये ये पता लगा सकते है की इन्सान को किस समय क्या मिलने वाला है और क्या मिला था और क्या मिलेगा| वो अपने समय का सदुउपयोग करता  है तो अपने जीवन में बहुत कुछ पा लेता है| उसको अपने सभी काम समय से ही करने चाहिए ताकि समय उसको स्वीकार सके यदि समय निकलने के बाद उसको समय की वास्तविकता का पता चलता है तब समय उसका साथ नही देता|
  3. हर एक इन्सान के जीवन का अच्छा और बुरा समय होता है, उसको अपने समय को पहचानना पड़ता है| कई इन्सान अपने बुरे समय से हार मान लेते है और उसके साथ साथ चलते रहते है वो उसमे संभल भी नहीं पाते| लेकिन कई इन्सान उस बुरे समय से इतना लड़ते है की अच्छा समय उनके पास खुद आता जाता है| 
  4. यदि इन्सान अच्छे समय की गति से चलता है तो उसके पास कभी भी बुरे समय का आगाज़ नहीं होता, और वो बुरा समय आने से पहले ही उसको पहचान कर ख़त्म कर देता है लेकिन कई इन्सान अपने समय को पहचाने की कोशिश ही नहीं करते और वो उसके चंगुल में इस तरह फंस जाते है की उससे बाहर ही निकल पाना उनके लिए सबसे बड़ी दुविधा बन जाता है| इस लिए दुनिया में समय की पहचान करनी हर उस इन्सान को आनी चाहिए, जो समय के मूल्यों को समझे और उसकी कसौटी को पार करके अपने लिए एक मुकाम हासिल करे|

                                                   Reality of time

It is said that time in the world is not in the hands of anyone who can hold it, time moves at a constant speed. Even God had to read with time, who still tries to explain the interpretation of time in the world even today, when and who should do it, it only tells his time. The speed of time never stops, it keeps going. Ever since this creation was created, time has been going on at its fixed speed. And will continue like this. Not knowing how many periods have passed in the period of time, but the pace of time has never stopped. 


There is no power in the world that can stop the pace of time and challenge it. The time for every human coming and going is fixed, how much he spends his life in this world determines his time. Just as a thing is constructed by humans, the amount of time it took to do that construction work tells the reality of it, like a child has to spend a few years to grow up, that is his reality. In the same way, many great humans of the world understood the fall of time and focused their attention on the origin of time. And exposed a lot of learning. Whose values ​​were understood and adopted by today's humans and invented many types of creations. 

The person who determines the outline of our life, who recognizes the human "reality of time", creates an identity in the world that is remembered for ages. We can still find out, through many scholars, at what time the person is going to get and what was found and what will be found. If he uses his time well, he gets a lot in his life. Every human has a good and bad time in life, many humans give up from their bad times and keep walking with them, they do not even get care in it. But many humans fight against that bad time so much that good time comes to them. If a man walks at the pace of good time, he never has a chance of bad time, and he recognizes and ends it before the bad time comes, but many humans do not even try to identify their time and they Get caught in his clutches like this Is that getting out of it becomes the biggest dilemma for them. Therefore, to identify time in the world, every person who comes to understand the values ​​of time and must overcome his criteria to achieve a place for himself.

Comments

Post a Comment

Thank you

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

                                                      प्यार की वास्तविकता, वास्तविकता   प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है|  प्यार का एहसास कब और क्यों होता है? प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है| प्यार के एहसास , को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके|   प्यार  के   एहसास पर विचार    प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान प