Skip to main content

Reality of Good and Evil(अच्छाई और बुराई की वास्तविकता) by Neeraj Kumar

 

अच्छाई और बुराई की वास्तविकता

वास्तविकता

हर एक इन्सान के जीवन के दो पहलु होते है जो जीवन भर उसके साथ साथ चलते है एक अच्छाई और दूसरा बुराई| ये उस इन्सान को ही सोचना और समझना होता है की वो जीवन भर किस रास्ते चलना चाहता है| वो इन्सान चाहे तो अच्छा बनकर अच्छाई के रास्ते चल सकता है और वही इन्सान चाहे तो बुरा बनकर बुराई के रास्ते चल सकता है|

अच्छाई और बुराई पर विचार 

अच्छाई और बुराई जीवन के वो रास्ते है, जिसमे इन्सान को ये समझना होता है की किस रास्ते पर कितनी कठिनाई मिलेगी| और वो उस रास्ते को अपनाकर अपना जीवन व्यतीत करता है या कर सकता है| हम ये नहीं कहेंगे की इन्सान को अच्छा बनकर अच्छाई के रास्ते ही चलना चाहिए, और हम ये भी नहीं कहेगे की इन्सान को बुरा बनकर बुराई के रास्ते ही चलना चाहिए| क्योकि दोनों रास्तो की कठिनाईयाँ और चुनौतिया अलग अलग होती है| 

अच्छाई बुराई का महत्व

हम जीवन में जो रास्ता चुनते है, उस रास्ते की कठिनाईयो के साथ जीवन की कसौटी को पार करना हमारा कर्तव्य बन जाता है| जो हमारे व्यक्तित्व की एक पहचान दुनिया के सामने रखता है| कई दुसरे इन्सान हमारी उस बनाई गई पहचान को अपनाते है और कई ठुकरा देते है| 

हम इन रास्तो के लिए सोच सकते है की हम जिस इन्सान के साथ जैसा करेंगे, वैसे के ही हक़दार हो| क्या पता हम किसी के साथ अच्छाई कर रहे हो और वो भी हमारे साथ अच्छाई ही करे| या हम किसी के साथ बुरा कर रहे हो और वो भी हमारे साथ बुरा ही करे| ये फैसला उसके व्यक्तित्व पर निर्भर करता है, जो रास्ता उसने अपनाया होता है| हमें नहीं पता की वो किस रास्ते से निकल चूका है, उसके व्यवहार से ही उसके व्यक्तित्व की पहचान की जाती है| 

कभी हम देखते है जिस इन्सान को हम नहीं जानते हो और हम उसके बारे में एक विचार लेकर बैठ जाते है, ये इन्सान बहुत बुरा है| लेकिन वो इन्सान ऐसा कोई काम नहीं करता हो, जिसके लिए उसे बुराई की उपाधि मिली|

वही दूसरी तरफ कभी हम उसके बारे में विचार लेकर बैठ जाते है की ये इन्सान बहुत अच्छा है| और वो ऐसा कोई काम नहीं करता हो, जिसके लिए उसे अच्छाई की उपाधि मिली| 

अच्छाई और बुराई दोनों पहलुओ से इन्सान के जीवन में एक गहरा प्रभाव होता है और वो प्रभाव उस इन्सान के आस पास रहने वाले इंसानों पर भी पढ़ता है| ये जीवन का वो साया होता है, जिसको इन्सान अपने विचार, व्यवहार और संबंधो से ही निर्धारित कर सकता है|


The Reality of good and evil

Reality
there are two aspects of the life of every human being who walk with him throughout his life, one is good and the other is evil. It is the person who has to think and understand what path he wants to walk throughout his life. If a person wants to be good, he can walk the path of good and if he wants to be good, he can walk the path of evil.

Thought 

Good and evil are the paths of life, in which a person has to understand how much difficulty will be found on which path. And he adopts that path or spends his life. We will not say that a person should walk the path of good by becoming good, and we will also not say that a person should walk the path of evil by becoming evil. Because both the paths have different difficulties and challenges. It is our duty to cross the test of life with the difficulties of the path we choose in life. 

Importance

Which puts an identity of our personality in front of the world. Many other people adopt our created identity and many reject it. For these paths, we can think that we will be entitled to the kind of person with whom we will do. 

Do you know that we are doing good to anyone and that too should be good with us? Or we are doing bad to someone and they should also do bad to us. This decision depends on his personality, the path he has followed. We do not know from which path he has left, his personality is identified by his behaviour. 

Sometimes we see a person whom we do not know and we sit down with an idea about it, this person is very bad. But that person does not do any such work, for which he got the title of evil. On the other side, sometimes we sit with the idea about him that this person is very good. And he does not do any such thing, for which he got the title of goodness. 

Both good and evil aspects have a profound influence in a person's life, and that effect is also read on humans living around that person. This is the shadow of life, which a person can determine by his thoughts, behaviour and relationships.

Comments

Post a Comment

Thank you

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

                                                      प्यार की वास्तविकता, वास्तविकता   प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है|  प्यार का एहसास कब और क्यों होता है? प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है| प्यार के एहसास , को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके|   प्यार  के   एहसास पर विचार    प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान प