Skip to main content

Reality of Humanity (इंसानियत की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

 इंसानियत की वास्तविकता

वास्तविकता 

इन्सान ही एक ऐसा प्राणी है जो अपने इंसान होने का फर्ज अदा कर सकता है दुनिया मे इंसानियत के बहुत सारे किस्से कहानियां है जो हमें हमारे इंसान होने पर गर्व करवा सकता है कि क्या हम इंसानियत को सही तरीके से निभा रहे है या नही।

इंसानियत का विचार 

आज दुनिया में कोई ऐसा इंसान नहीं है जो किसी ना किसी समस्या से ना घिरा हुआ हो। हमने अपने दैनिक जीवन में देखा होगा कि हमारी समस्याओं से बड़ी दूसरे की समस्या है जो उस इंसान का जीवन खत्म करने पर उतारू है।दूसरे इंसानो की समस्या का समाधान करना ही सबसे बड़ी इंसानियत कहलाती है। समाधान किसी भी तरह से किया गया वो हमारी इंसानियत का कर्ज अदा करती है।

इंसानियत का महत्व

जब कभी कोई इन्सान बिना लालच के किसी दुसरे इन्सान की कोई ऐसी मदद करता हो जिसमे उसका कोई लालच ना छुपा हो जिसको करना समाज के लिए एक उदाहरण साबित हो और वो उसके लिये खड़ा रहता है तो हम उस इन्सान को इंसानियत की संज्ञा देते है| 

दुनिया में बहुत से ऐसे इन्सान हुये है जो बिना लालच के दुसरे बेसहारा  गरीब इंसानो की मदद करने के लिए सामने आते है, वो अपने द्वारा की गई मदद से  इंसानियत को महत्व देते है और ऐसे कार्य करने में अपने आप को उत्साहित रखते है| हमारे सामने कई बार ऐसी घटनाये घट जाती है, जिसमे इंसानियत को महत्व दिया जाता है जिसमे एक इंसान दूसरे इंसानो की मदद करता हो| और इसमें उस इन्सान का कोई लालच भी नहीं होता जिसके लिए वो दुसरो के साथ इंसानियत दिखा रहा है| 

अब तक ना जाने ऐसे कितने मौके आये होंगे जिसमे एक इंसान को दूसरे इंसानो की मदद करनी पड़ी होगी | ऐसा ही एक उदाहरण हमारे सामने है जब हम ब्लड बैंक में अपना खून दान देने के लिए जाते है, हमें ये बिल्कुल नहीं पता होता की हमारा ख़ून किस इन्सान को दिया जायेगा| हम सिर्फ ऐसा कार्य इंसानियत को महत्व देते हुए करते है ताकि उस इन्सान को बचाया जा सके| 

जब जब मानवता पर किसी प्रकार का खतरा हुआ या होता है तब भी हम इंसानियत को महत्व देते है| ऐसे और भी बहुत सारे उदाहरण है जिसको हम बता सकते है| अलग अलग जगह इंसानियत को महत्व देते हुए इंसान एक दुसरे की मदद को तैयार रहते है, हमने बहुत ऐसे नाम सुने होंगे जिन्होंने इंसानियत को महत्व देते हुए दुसरे बेसहारा इंसानों की बिना लालच के मदद की है और करते है| 

हमें हमेशा ये सोच रखनी चाहिए की कभी भी किसी को हमारी किसी भी तरह से जरुरत हो और हम उसकी जरुरत को आसानी से पूरी कर सकते है तो हमें उसके लिए खड़े रहना चाहिए ताकि हम एक इन्सान होने के नाते इंसानियत को महत्व दे सके| 

कई बार इंसान जानवरो के लिये भी बड़ा दिल दिखता है और उनकी  जान बचाने के लिये भी या उनके खाने पीने के लिये एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है हमे उन इंसानो से भी सिखना चाहिये की इंसानियत हम सब मे होती है बस उसको बाहर निकलना आना चाहिये ताकि हम अपने अपने अंदर की इंसानियत को ना मरने दे और इंसानियत के रास्ते पर चले। 

Reality of Humanity                                            Whenever a human being gives any help to another human being without greed, in which there is no greed hidden by him, which can prove to be an example for the society and he stands for it, then we call that human being as a human being. 

There have been many such people in the world who come forward to help other poor poor people without greed, they give importance to humanity with their help and keep themselves excited in doing such work. Many times such incidents happen in front of us, in which importance is given to humanity, in which one person helps other humans. And there is no greed for the person for whom he is showing humanity with others. 

Till now, there have been many such opportunities in which one person has to help other people. One such example is in front of us when we go to the blood bank to donate our blood, we do not know to whom our blood will be given. We only do such work by giving importance to humanity so that the person can be saved. 

We give importance to humanity even when there is some kind of danger or threat to humanity. There are many other examples that we can tell. While giving importance to humanity in different places, people are ready to help each other, we must have heard many names that have helped other destitute humans without greed while giving importance to humanity and we should always think that Anytime someone needs us in any way and we can easily fulfill his need, then we should stand for him so that we can give importance to humanity as a human being. 

Many times a person also has a big heart for animals and also plays an important role to save their life or to eat their food. We should also learn from those humans that humanity is in all of us, just that it should come out Let us not kill the person inside us and we can walk on the path of humanity.                  

Comments

Post a Comment

Thank you

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

                                                      प्यार की वास्तविकता, वास्तविकता   प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है|  प्यार का एहसास कब और क्यों होता है? प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है| प्यार के एहसास , को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके|   प्यार  के   एहसास पर विचार    प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान प