Skip to main content

Reality of Life(जीवन की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

 

                          जीवन की वास्तविकता

वास्तविकता 

कहते है किसी भी इन्सान का जीवन तभी मिलता है, जब उसने 84 लाख यौनियो को पार किया हो| कई बार पिछले कर्मो के आधार पर भी इंसानी जीवन मिल सकता है| इंसानी जीवन की उम्र करीब 100 वर्ष निर्धारित की गई है, जबकि दुनिया में किसी को नहीं पता की वो अपना जीवन इस दुनिया में कितना बिताएगा| जिसको जीवन मिला, उसको किसी ना किसी तरीके से भोगना ही पढता है चाहे ख़ुशी और कमियाबी से बिता सके, या दुखी और बिना कामियाबी के| ये वो यात्रा है जिसमे चाहे तो सब मिल जाता है और यदि ना चाहे तो कुछ भी नहीं| जीवन की यात्रा में भी कई चरण है जिसको हमें अलग अलग किरदारों में निभाना ही पढता है|

जीवन पर विचार 

जीवन का मिलना हमारे लिए कितना महत्वपूर्ण है, हम जीवन की वास्तविकता से जान सकते हैं जिसे हम अन्य जीवित प्राणियों को देखकर समझ सकते हैं। यात्रा में कोई फर्क नहीं पड़ता कि जीवन की यात्रा में वह अपनी रेल को कैसे चलाता है और वह किस तरह से अपनी भूमिका निभाता है।

जीवन एक ऐसा ढाँचा है, जिसे समझना हमारे लिए उतना ही ज़रूरी है जितना कि हर उस इंसान को जीना है जो इस जीवन की यात्रा के माध्यम से इस दुनिया में आया है; हमें यह समझना होगा कि जीवन का किरदार, समय-समय पर, हम बदलते रहते हैं और हम किस किरदार को इतने अच्छे से निभाते हैं।

जीवन का महत्व 

किसी भी जीवन की शुरुआत में जन्म के बाद बचपन की बात करे तो ये दौर हर उस इन्सान की जिंदगी में खास होता है जिसको जीवन मिला हो| ताकि वो अपने बचपन को भरपूर मौज मस्ती से बिता सके| बचपन में बच्चो को इतना कुछ याद नहीं होता क्योकि वो अपने वर्तमान पर निर्भर होते है और भविष्य की कोई ज्यादा चिंता नहीं होती| इसलिए उनमे खेल उत्साह और तरह तरह की चीजो के बारे में जानने की जिज्ञासा ज्यादा होती है| वो जीवन को जीने की भरपूर कोशिश करते है और जीवन की यात्रा में बचपन का किरदार हंसी खुशी निभाते है|                                                                   

बचपन के बाद जवानी एक ऐसी यात्रा होती है जिसमे जीवन को सँवारने और बिगाड़ने की भरपूर कोशिश की जाती है और जीवन के भविष्य को लेकर एक योजना बनाई जाती है| उसको आगे क्या करना है, क्या नहीं करना| कैसे जीवन बिताना है कैसे नही, ये समझना पढता है| इस यात्रा में वो जीवन को पहचानने की पूरी कोशिश करता है नाम, दौलत, शोहरत पाने की दौड़ में शामिल होता है जिसमे दुनिया के इन्सान अपने जीवन के लिए भी संघर्ष कर रहे होते है और जीवन की यात्रा में एक महत्वपूर्ण किरदार को निभाना पढता है|  

इसके बाद संघर्षपूर्ण जीवन में घर और परिवार को बनाने की जिम्मेदारी होती है वो किस तरह अपने साथ साथ अपने परिवार के सदस्यों को किस तरीके से सुख सुविधा या ख़ुशी महसूस कराता और उनको अपने ज्ञान के जरिये प्रोत्साहित करता है की वो भी अपने मिले हुए जीवन में एक ऐसे इन्सान बने जो उससे भी अच्छे जीवन को बिताये| जिससे वो भी आगे चल कर अपने जीवन में परिवार को वो सब सुख सुविधा और ख़ुशी दे सके| इसमें जीवन की वो यात्रा शमिल होती है जिसमे संघर्ष और कसौटी को पार करना ही होता है इस यात्रा में जीवन में क्या मिला और क्या नहीं ये समझकर इस किरदार को निभाना पढता है|

इसके बाद जीवन का वो किरदार शुरू होता है जिसमे उसने जीवन में कितना, क्या किया जिसका फल उसको मिल सके| इस दौर में इन्सान अपने जीवन का वो हिस्सा बिताता है जिससे उसको अपने अच्छे बुरे कर्मो का फल भोगना ही पड़ता है की उसने जीवन में किया बोया था जिसकी छाया में बैठ सके, उसने सोच समझकर वो रास्ता चुना था| मृत्यु के बाद ही उसके जीवन का अंत होता है|

कई बार कुछ ऐसे इन्सान होते है जो जीवन की कठिनाईयों से गुजर कर अपना एक मुकाम बनाते है| और कई इन्सान ऐसे भी होते है जो जीवन के संघर्षो को देखकर हार मान जाते है और बर्बादी की तरफ अग्रसर होते जाते है| हमारे लिए इंसानी जीवन का मिलना ही बहुत कीमती है और उसको जीना और समझना उससे भी महत्वपूर्ण काम है जो इन्सान अपने जीवन को आसानी से समझ जाता है और अपने लक्ष्य को हासिल कर लेता है वो ईश्वर के दिये गए जीवन का कृपा पात्र माना जाता है और जो व्यक्ति अपने जीवन को बिगाड़ देता है और कोई लक्ष्य हासिल नहीं कर पाता| जीवन को सँवारना और बिगड़ना उस इन्सान के हाथ में होता है जिसको जीवन मिला है| जीवन में हमेशा ये ध्यान रखना चाहिए| की हर इन्सान के जीवन का कोई न कोई आधार जरुर होता है ताकि वो ईश्वर के दिए गए जीवन का भरपुर आनंद ले सके| 

दुनिया में, मनुष्य को जीवन मिलने पर जो महत्व मिलता है, वह उसे अच्छी तरह से निभा रहा है। हर युग में, हमने देखा होगा कि मनुष्य ने अपने जीवन में संघर्ष के बावजूद सफलता प्राप्त की है। वे अपने जीवन के महत्व को समझते थे और पात्रों को शानदार ढंग से निभाते थे।

निष्कर्ष 

जीवन से सीखने को मिलता है कि हमें अपने जीवन को अनमोल समझना चाहिए और काम करना चाहिए और जीना चाहिए। यह एक वरदान है जो 84 लाख लिंगों के बाद या ऐसे कर्मों के बाद मिलता है, जिनकी बैठक को सबसे बड़ी उपलब्धि माना जाता है। 

 

 Reality of life

Reality

It is said that the life of any human is found only when he has crossed 84 lakhs sexes. Sometimes human life can be found on the basis of previous actions. The age of human life has been determined to be about 100 years, whereas no one in the world knows how much he will spend his life in this world. One who has got life, he has to study it in some way or the other, whether he can live happily and inexorably, or unhappily and without success. This is the journey in which you get everything you want and if you don't want nothing. There are many stages in the journey of life, which we have to study in different roles.

Thought on life

How important it is for us to meet life, we can know from the reality of life that we can understand by looking at other living creatures. No matter how the traveler is in the journey of life, how does he run his rail on the track of living life and how he plays his way.

Life is such a framework, which is as important for us to understand as it is to live every human being who has come to this world through the journey of this life; we have to understand how the character of life, from time to time, We keep changing and which character we play so well.

Importance of life

If you talk about childhood after birth at the beginning of any life, then this phase is special in the life of every person who has got life. So that he can spend his childhood with a lot of fun. In childhood, children do not remember that much because they depend on their present and do not worry much about the future. Therefore, they have more enthusiasm in sports and curiosity to know about different kinds of things. They try their best to live life and play the character of childhood laughing happily in the journey of life.

Youth after childhood is a journey in which a lot of effort is made to improve and spoil life and a plan is made for the future of life. What to do next, what not to do. We have to understand how to live life and how not to live. In this journey, he tries his best to identify life, is involved in the race to gain name, wealth, fame, in which the human beings of the world are also struggling for their lives and have to play an important role in the journey of life. After this, in a struggling life, there is a responsibility to build a home and a family, how he can bring happiness and happiness to his family members along with him and encourage them through his knowledge that they too can get their life together. I became a man who lived a better life than that. So that he too can go ahead and give all the comforts and happiness to the family in his life. It involves the journey of life, in which the struggle and the test has to be overcome, in this journey, understanding what was found in life and what not, one has to read this character.

After this, the character of life begins in which he did so much in life, what he could get the fruits of. In this period, man spends that part of his life so that he has to bear the fruits of his good and bad deeds that he had sown in life, in which he can sit in the shadow, he thoughtfully chose that path. It is only after death that his life ends

Sometimes there are some humans who go through the difficulties of life and make a place for themselves. And there are many human beings who, after seeing the struggles of life, give up and move towards waste. It is very precious for us to get a human life and to live and understand it is even more important that a person understands his life easily and achieves his goal, he is considered to be the grace of the life given by God. And the person who spoils his life and does not achieve any goal. It is in the hands of the person who has got life. This should always be taken care of in life. That there is some basis of every human's life so that he can enjoy the life given to God in full. 


In the world, the importance that humans get when they get a life, they have been playing it well. In every era, we must have seen that humans have achieved success in spite of struggling in their life. They understood the importance of their lives and Played the characters brilliantly.

The conclusio

We get to learn from life that we should consider our life as precious and work and live. This is a boon which is found after 84 lac sexes or after such deeds, whose meeting is considered to be the biggest achievement. 

.


Comments

Post a Comment

Thank you

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

                                                      प्यार की वास्तविकता, वास्तविकता   प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है|  प्यार का एहसास कब और क्यों होता है? प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है| प्यार के एहसास , को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके|   प्यार  के   एहसास पर विचार    प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान प