Skip to main content

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

 

                       

                           प्यार की वास्तविकता,

वास्तविकता  

प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है| 

प्यार का एहसास कब और क्यों होता है?

प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है|

प्यार के एहसास, को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके| 

प्यार के  एहसास पर विचार   

प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान पा रहे है तो भी इसको प्यार कह सकते है| प्यार के अलग अलग रूप भी देखने को मिल सकते है| गरीब को अमीर से, या अमीर को गरीब से, या ताकतवर को कमजोर से, या बुधिद्मान को बेवकूफ से| प्यार की कोई सीमा या उम्र नहीं होती| यानि चाहे वो पूर्व से पश्चिम ही क्यों ना हो| प्यार कभी भी सोच समझ कर नहीं होता| ये वो एहसास होता है, जिसको महसूस करके पहचान सकते है| जब किसी को किसी से प्यार होता है तो वो उसके लिए कोई भी कुर्बानी के लिए तैयार रहता है| जैसे भक्त को भगवन से होता है, उसी तरह किसी इन्सान को दुसरे इन्सान से रहता है|

प्यार का महत्व   

प्यार ,प्रेम ,मोहब्बत,इश्क़ एक ऐसा शब्द है जिसको सुनकर हम उस इन्सान के बारे में सोचने लगते है, जिसको हम प्यार करते है या वो हमसे प्यार करता है या करता था या करता होगा| प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको महसूस करके ही पहचान सकते है|

हम अपने प्यार के एहसास को उन दुसरे इंसानों से महसूस कर सकते है जिनके साथ हम अपना जीवन व्यतीत कर रहे होते है| इसमें हमारे सभी तरह के रिश्ते आते है और उनके साथ जीवन व्यतीत करने लगते है या करेंगे| 

कई बार हम किसी ऐसे इन्सान के लिए वो एहसास महसूस करने लगते है जिसको प्यार कह सकते है, जो हमें देखने में अच्छा लगता हो| और कई बार हम किसी से लगातार बाते करते रहते हो| तब भी उस लगाव को हम प्यार से जोड़ते है कई बार उन जीव जन्तुओ से भी हमारा लगाव इतना जुड़ जाता है, जिसको हम प्यार कह सकते है| 

हम किसी दुसरे इन्सान को प्यार करने के लिए मजबूर और जबरदस्ती भी नहीं कर सकते| हमारे जीवन में हमको बहुत सारे ऐसे इन्सान मिलते है, जिनको देखकर हमें प्यार का एहसास होने लगता हो| यदि वो भी हमसे प्यार के एहसास के साथ अपनी भावना को जोड़ते है, तब भी हम प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है| 

हमें प्यार से जुड़े रूप अलग अलग परिस्तिथियों और रिस्तो में दिखाई देते है| किसी के लिए हमारा प्यार कैसा, और किसी दुसरे के लिए हमारा प्यार कैसा, या वो उसके लिए किस तरह का प्यार रखता, या वो मेरे लिए किस तरह का प्यार रखता, ये वो एहसास होता है जिसको हम बता नहीं सकते| 

हमें  ये महसूस करके ही पहचानना पढता है| कई बार वो इन्सान अपने प्यार के एहसास को उस इन्सान को बताने की कोशिश करता है या बता देता है जिससे वो प्यार करते है बदले में वो भी उससे उसी तरह के एहसास को महसूस करने की भावना रखते है| किसी के प्यार का एहसास किसी के लिए इतना महत्वपूर्ण हो जाता है की वो उसके लिए किसी भी हद तक जाने की कोशिश करते है| 

जब किसी के प्यार में गलतफ़हमी बढने लगे तो उस प्यार के टूटने की सम्भावना भी बढ़ने लगती है| लेकिन प्यार वो विश्वाश का पवित्र रिश्ता होता है| जिसमे किसी दुसरे के आने की कोई गुंजाइश नहीं होती| यदि हम सोचे की हम बिना प्यार के जीवन व्यतीत कर सकते है, तो ये नामुमकिन ही लगता है| 

निष्कर्ष

इंसानी जीवन को जीने के लिए प्यार का होना जरुर चाहिए| ताकि वो अपने प्यार के सहारे जीवन बिता सके और होता भी यही है| हम अपने प्यार के एहसास और दुसरे के प्यार के एहसास की भावना को एक नाम देते है| ताकि लोग एक दुसरे को देखकर सिख सके की प्यार का एहसास कितना अच्छा होता है|

                                                               Reality of love

The reality

Love is a feeling that we have to follow the path of love to understand. Love should be the journey of human life, without love there is no basis of life, how can we feel the feeling of our love? We have to learn it from those humans who feel love for someone.

When and why do you feel love?

Love calls him, when a human being starts feeling the feeling that he cannot live without seeing or talking to others, then we can call him love.

To know and understand the feeling of love, we have to read in detail about love so that when we love someone or someone loves us, we can realize that feeling.


Thoughts on love feeling

Love is the relation of two hearts, which can happen to anyone from anyone. When a human being starts believing everything for someone else and realizes that his greed is not hidden and he can find him helpful in his work and we are able to know this very well, then we can still call it love. Different forms of love can also be seen. Poor to rich, or rich to poor, or mighty to weak, or Buddha to stupid. Love has no limit or age. That is, even if it is east to west. Love is never thoughtful This is the feeling that one can recognize by feeling. When someone falls in love with someone, they are ready to sacrifice for him. Just as a devotee is from God, similarly a person lives with another person.

importance of love

Love is a word that we hear and start thinking about the person whom we love or he loves or used to do or would have loved. Love is a feeling that can be recognized only by feeling, we can feel the feeling of love from other humans with whom we are spending our lives. In it all our kind of relationships come and start or will lead life with them. 

Many times, we start to feel that feeling for a person who can be called love, which we like to see. And sometimes we keep talking to someone constantly. Even then, we attach that attachment to love, many times our attachment to those living animals is so much, which we can call love. 

We cannot force and force another person to love. In our life, we get many such people, seeing whom we start feeling love. If they also combine their feelings with the feeling of love from us, we can still feel the feeling of love. 

We see the forms associated with love in different circumstances and situations. What is our love for someone, and how is our love for someone, or what kind of love he would have for him, or what kind of love he would have for me, it is a feeling that we cannot tell? 

We have to read this feeling only. Many times, a person tries to tell the person of his love or to tell the person with whom he loves, in return he also has the feeling of feeling the same kind of feeling from him. Feeling of someone's love becomes so important for someone that they try to go to any extent for him. 

When misunderstandings start increasing in someone's love, then the possibility of breaking that love also starts increasing. But love is a sacred relationship of faith. In which there is no scope for any other to come. If we think that we can live life without love, then it seems impossible. 

To live a human life, love must be there. So that he can live life with the help of his love and the same happens. And the same happens. We give a name to the feeling of our love and the feeling of feeling of love of another. So that people see each other and learn how good it is to feel loved.

Comments

Post a Comment

Thank you

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार