Skip to main content

Reality of Language( भाषा की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                                   Reality of Language

Reality

 Language is the one in which we talk. We can use any language to communicate with each other, which we know to speak and understand well. There are many languages ​​in the world. Different countries have their own language and that language is considered the national language of that country. Which creates the identity of that country. People share their thoughts with each other in their lives through language. We also speak other languages ​​and try to learn.

As Hindi language is used more in India, it is one of the major languages ​​of the world. Hindi is also the official language of India. The history of Hindi language is very old. Hindi and its dialects are spoken in various states of India. People in India and other countries also speak, read and write Hindi as they speak, read, write in the English language world. Hindi language is also considered as the contact language of India, it is a language that is easy to speak, listen and write easily.

Thought

Language connects one human to another. When a person puts his thoughts in front of another person, he talks in the language that he knows. Language tells us about the knowledge of those things, places in which we think in our mind.

Importance

Every person has a local language and through that language they easily speak with each other. There are many languages ​​in the world and every country in the world has its own language, humans get the knowledge of that language from their parents. But the interest of learning other languages ​​is in every person who learns the knowledge of languages. There are many countries in which many types of languages ​​are spoken and the citizens of those languages ​​are well-versed and when two humans meet that country or city, they like to talk in their local language.

There are also languages ​​connecting the world to each other. But there is a language which connects us with citizens of any corner of the world. Which is also recognized by all.

When we travel to a country, we must have a little knowledge of the language of that country, otherwise we are stuck in the language of that language and we cannot understand what we want to know and understand. Therefore, to spread the knowledge of languages, the world has decided to give authenticity to languages. Language gives us knowledge of subjects we want to learn. Want to know about them. Language provides information about many cultures of the world.

Many countries of the world have written their culture and history in such a language so that humans can easily get their knowledge there. For thousands of years, it is in the same language that it becomes the path of many achievements in life, if we ignore the language, then we will not be able to achieve those achievements, so we should continue to try to learn the language, not knowing from which language Achieve achievement by acquiring knowledge.


                                               भाषा की वास्तविकता  
वास्तविकता

भाषा वो है जिसमे हम बात करते है|  हम एक दुसरे से संवाद के लिए किसी भी भाषा का प्रयोग कर सकते है, जिसको हम अच्छे से बोलना और समझना जानते हो| दुनिया में बहुत सारी भाषाए है| अलग अलग देश की अपनी भाषा है और वो भाषा उस देश की राष्ट्र भाषा मानी जाती है| जिससे उस देश की पहचान बनती है| लोग अपने जीवन में भाषा के माध्यम से अपने विचार एक दुसरे से साझा करते है| हम दूसरी भाषाए भी बोलते है और सिखने की कोशिश भी करते है|     

जैसे भारत में हिंदी भाषा का प्रयोग ज्यादा होता है यह विश्व की प्रमुख भाषाओं में से एक है हिंदी भारत की राजभाषा भी है हिंदी भाषा का इतिहास बहुत पुराना है हिन्दी और इसकी बोलियाँ सम्पूर्ण भारत के विविध राज्यों में बोली जाती हैं। भारत और अन्य देशों में भी लोग हिंदी बोलते, पढ़ते और लिखते हैं जैसे अंग्रेजी भाषा विश्व में बोलते,पढ़ते, लिखते है। हिंदी भाषा को भारत की सम्पर्क भाषा भी माना जाता है ये एक ऐसी भाषा है जिसको सरलता से बोलने सुनने और लिखने में आसान होता है। 

विचार

भाषा एक इन्सान को दुसरे इन्सान से जोडती है| जब एक इन्सान अपने विचार किसी दुसरे इन्सान के सामने रखता है तो वो उस भाषा में बात करता है, जिसको वो जनता है| भाषा हमें उन वस्तुओ जगहों के ज्ञान के बारे में बताती है जिसकी सोच हमारे मन में होती है|

महत्व

हर इन्सान की एक स्थानीय भाषा है और उस भाषा के माध्यम से वो आसानी से एक दुसरे से अपनी बात करते है| दुनिया में अनेक भाषाये है और दुनिया में हर देश की अपनी एक भाषा है, उस भाषा का ज्ञान इन्सान को अपने माता पिता से मिल जाता है| लेकिन दूसरी भाषाए सिखने की दिल्चस्पी हर उस इन्सान में होती है, जो भाषाओ के ज्ञान को सीखता है| कई देश ऐसे है जिसमे अनेक प्रकार की भाषाए बोली जाती है और उन भाषायो का ज्ञान वहा के नागरिको को अच्छे से होता है और जब दो इन्सान उस देश या शहर के मिल जाते है तो वो अपनी स्थानीय भाषा में बात करना पसंद करते है|

दुनिया को एक दुसरे से जोड़ने वाली भाषाए भी है| लेकिन एक ऐसी भाषा है, जो हमें दुनिया के किसी भी कौने के नागरिको एक दुसरे से जोडती है| जिसको सभी ने मान्यता भी दी है|

जब हम किसी देश की यात्रा करते है तो हमें उस देश की भाषा का थोडा बहुत ज्ञान जरुर होना चाहिए, नहीं तो हम उस भाषा के मकडजाल में फंस कर रह जाते है और जो हम जानना और समझना चाहते है तो हम उसको नहीं समझ पाते| इसलिए भाषाओ के ज्ञान को फैलाने के लिए दुनिया ने भाषाओ को प्रमाणिकता देने का फैसला किया है| भाषा, हमें उन विषयो का ज्ञान देती है जिसको हम सीखना चाहते है| उनके बारे में जानना चाहते है| भाषा संसार की अनेक संस्कृतियों के बारे में जानकारी उपलब्ध कराती है|

निष्कर्ष

दुनिया के कई देशो ने अपनी संस्कृति और इतिहास को एक ऐसी भाषा में लिख कर रखते है जिससे वहा के इंसानों को आसानी से उसका ज्ञान मिल सके| हजारो सालो से चलती आरही भाषा में ही है जो जीवन की अनेक उपलब्धियों का मार्ग बनती है यदि हम भाषा को अनदेखा करते है तो हमें उन उपलब्धियों को हासिल नहीं कर पाएंगे इस लिए भाषा को सिखने का परियास करते रहना चाहिए ना जाने किस भाषा से हम ज्ञान प्राप्त करके उपलब्धि पा सके|   


Comments

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

                                                      प्यार की वास्तविकता, वास्तविकता   प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है|  प्यार का एहसास कब और क्यों होता है? प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है| प्यार के एहसास , को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके|   प्यार  के   एहसास पर विचार    प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान प