Skip to main content

Reality of yoga (योग की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

 

                                Reality of Yoga

Reality

Yoga is a type of exercise that moves us towards healthy as well as spirituality Yoga can be done in time in daily life only by reducing stress and progressing towards good health and Can stay away from diseases

Thought

Stress and diseases have spread their entire life in the competitive life in the present day, in order to reduce stress and keep healthy, people want to turn their face to medicines to reduce the stress of their daily life In the morning, one looks for an exercise that can include humans of all ages. He is yoga and is moving towards human yoga which reduces his stress and keeps the body away from diseases. Yoga has become necessary for human to get good healthy.

Importance

Yoga is not discovered today Yoga was recognized in Indian culture and history since ancient times and great sage sages have made yoga a part of their daily lives, which helped spirituality through yoga. And took his life. And because of doing yoga in every season, he was so healthy. When yoga became important in ancient times, he displayed the arts of yoga through painting. By which the utility of yoga is understood in the present day.

Since ancient times, India understood and valued the importance of yoga and along with it many countries of East Asia got involved in it. The importance related to spirituality and yoga started coming in front of them. In the world, we have seen how yoga has affected humans, out of the natural civilization, yoga has started being given great importance in East Asia and now in Europe and America, so today the United Nations also understood the importance of yoga and 21 June Announced to celebrate Yoga Day. So that more and more people should adopt yoga and make a good health and move their steps. In India, Yoga Day is celebrated as a festival so that a festival which involves people of all religions and they do yoga in all their enthusiastic ways, keeping their healthy good and consider it as a Yoga Day. Today, we see how people have also increased the business with the help of yoga so that maximum number of people can get connected with yoga.

Today even the greatest doctors of the world believe that with the help of Yoga many diseases can be easily treated and they are being eradicated. Therefore, yoga process is the process that a person can do without spending his or her illnesses and move towards a good health. Yoga can be a part of the life of every person who wishes for good health with the help of yoga. Today there are many human beings in the world who walk on the path of spirituality and good health through yoga and inspire others.

From ancient to present, many people have kept good health through yoga and spread yoga in the world so that other people can get good healthy through yoga.

If a person wants, he can make yoga a part of his life and get good health and spiritual.


                             योग की वास्तविकता 

वास्तविकता

योग एक प्रकार का व्यायाम है जो हमें स्वास्थ्य के साथ साथ आध्यात्मिकता की और अग्रसर करता है योग दैनिक जीवन में समय के अनुसार ही किया जा सकता है योग के सहारे तनाव कम करके अच्छे स्वास्थ्य की और आगे बढ़ सकते है और बीमारियों से दूर रह सकते है 

विचार 

वर्तमानकाल में प्रतियोगिता भरे जीवन में तनाव और बीमारियों ने अपने पूरे पैर पसार लिए है। तनाव को कम करने और अच्छा स्वास्थ्य रखने के लिए इन्सान दवाओ से मुख मोड़ना चाहता है। वो अपने दैनिक जीवन के तनाव को कम करने के लिए सुबह सवेरे एक ऐसे व्यायाम की तलाश करता है, जिसमे हर उम्र के इन्सान शामिल हो सके| वह योग है और इन्सान योग की तरफ अग्रसर हो रहा है जो उसके तनाव को कम करे और शरीर को बीमारियों से दूर रखे इन्सान को अच्छे स्वास्थ को पाने के लिए योग जरुरी बन गया है|

 महत्व

योग कोई आज की खोज नहीं है भारतीय संस्कृति और इतिहास में प्राचीन काल से ही योग को पहचान लिया गया था और बड़े बड़े ऋषि मुनियों ने योग को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बना लिया था जो योग के सहारे आध्यात्मिकता की और  अपने जीवन को लेकर गये| और हर मौसम में योग करने के कारण ही इतने स्वस्थ रहते थे| प्राचीन काल में जब योग का महत्व हुआ तो उन्होंने चित्रकारी के जरिये योग की कलाओ को प्रदर्शित किया| जिससे वर्तमान में योग की उपयोगिता को समझा गया|    

प्राचीन काल से ही भारत ने योग की अहमियत को समझा और  महत्व दिया और साथ साथ पूर्वी एशिया के कई देश इसमें शामिल होते चले गए| आध्यात्मिकता और योग से जुड़े महत्व उनके सामने आने लगे| दुनिया में हमने देखा है की योग ने कैसे इंसानों को प्रभावित किया है भातरीय सभ्यता से निकल कर पूर्व एशिया और अब यूरोप और अमेरिका में भी योग को बहुत महत्व दिया जाने लगा है इसलिए आज संयुक्त राष्ट ने भी योग की अहमियत को समझा और 21 जून योग दिवस के रूप में मनाने का ऐलान किया| जिससे ज्यादा से ज्यादा इन्सान योग को अपनाये और एक अच्छे स्वस्थ की और अपने कदम बढ़ाये| भारत में तो योग दिवस को एक त्यौहार के रूप में मनाया जाता है, यानि एक ऐसा त्यौहार जिसमे सभी धर्म के लोग शामिल होते है और वो अपने पूरे उत्साहपूर्ण तरीके से योग करके अपने स्वास्थ्य अच्छा रखकर योग दिवस मानते है| आज हम देखते है की कैसे लोगो ने योग के सहारे व्यापारीकारण को भी बढ़ाया है, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगो का जुडाव योग से हो सके|

           आज दुनिया के बड़े बड़े चिकित्सक भी मानते है की योग से काफी सारी  बीमारियों का आसानी से इलाज किया जा सकता है और उनको ख़त्म किया जा रहा है| इसलिए योग प्रक्रिया वो प्रक्रिया है जो बिना खर्चे के इन्सान अपनी बीमारियों को खत्म करके एक अच्छे स्वास्थ्य का  हिस्सा बन सकता है। जो योग के सहारे अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हो| आज दुनिया में बहुत से इन्सान है, जो योग के जरिये आध्यात्मिकता और अच्छे स्वास्थ्य के रास्ते पर चलते है और दुसरो को भी प्रेरित करते है। 

प्राचीनकाल से वर्तमानकाल तक योग से बहुत सारे इंसानों ने योग प्रक्रिया के जरिये अच्छा स्वास्थ्य रखा है और योग को दुनिया में फैलाया है। ताकि दुसरे इन्सान योग के जरिये अच्छे स्वास्थ्य को पा सके|यदि इन्सान चाहे तो योग को अपने जीवन का हिस्सा बना सकता है और अच्छा स्वास्थ्य और आध्यात्मिकता को पा सकता है|    




 

Comments

  1. बहुत अच्छा जी तरक्की करो जी

    ReplyDelete

Post a Comment

Thank you

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

                                                      प्यार की वास्तविकता, वास्तविकता   प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है|  प्यार का एहसास कब और क्यों होता है? प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है| प्यार के एहसास , को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके|   प्यार  के   एहसास पर विचार    प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान प