Skip to main content

Reality of hunger(भूख की वास्तविकता)By Neeraj kumar

 भूख की वास्तविकता

वास्तविकता

भूख एक ऐसा एहसास है जो किसी भी इन्सान को तोड़ के रख देती है दुनिया में ऐसा कोई इन्सान या जीव जन्तु नहीं है जिसको भूख ना लगती हो बिना भूखे रह कर कोई भी इन्सान कोई काम नहीं कर सकता| पृथ्वी पर जब से इंसानों या जीव जन्तु की उत्पत्ति हुई है तब से इन्सान को भूख लगना लाजमी है यदि कोई ऐसा इन्सान मिलता है जिसको भूख ना लगती हो| वो इस दुनिया में किसी देवीय शक्ति से कृपालु हो सकता है लेकिन ऐसा इन्सान बहुत ही कम देखने को मिलते है|

भूख पर विचार   

भूख वो एहसास है जिसको इन्सान जन्म से लेकर मृत्यु तक महसूस कर सकता है बिना भूखे रहे कोई भी इन्सान अपना जीवन व्यतीत नहीं कर सकता| इन्सान को अपने लिए दिन में  कम से कम दो समय के भोजन का इंतजाम करना ही होता है| दुनिया के बहुत से देश ऐसे है जहाँ लोगो को भुखमरी का सामना करना पड़ता है और भूख से लोगो की मौत तक हो जाती है और ये आकड़ा दिन प्रति दिन बढ़ता जा रहा है जबकि कई देशो में भूख से तडपते लोगो को देखा गया है दुनिया के बहुत से गरीब देश है जहाँ भूखे रहने से वहां के जन्मे बच्चो को कुपोषण का शिकार तक हो जाते है| भूख इन्सान को कार्य करने में असमर्थ कर देती है| यदि भूखे इंसानों के एहसास को महसूस करना है तो एक दिन भूख से सामना करके देखो हमें उस भूख की शक्ति का एहसास हो जायेगा|

भूख और भोजन    

भूख को संतुष्ट करने के लिए भोजन ही इन्सान के शरीर को काम करने की शक्ति देता है यदि कोई इन्सान कुछ दिन तक भूखा रहता है तो उसकी मृत्यु तक हो जाती है यदि किसी साधारण व्यक्ति को भूखा रहना पढ़ जाये तो वो ज्यादा से ज्यादा एक या दो हफ्ते तक भूखा रह सकता है भूखा रहने से उसकी रोगों से लड़ने की शक्ति कम हो जाती है और वो बीमारियों का शिकार हो जाता है लेकिन भारत ही नहीं दुनिया के कई देशो में लोगो को कई दिनों तक भूखा रहना पड़ता है और कई लोग ऐसे मिलेंगे जिनका पूरा का पूरा जीवन दो वक्त के भोजन की तलाश में ही गुजर जाता है जबकि दुनिया में खाने की सामग्री बहुत अधिक मात्रा में उपजाई जाती है जैसे

अनाज का महत्व

दुनिया में भूख की संतुष्टि के लिए अनाज ही है जो भूख को मात दे सकता है लेकिन अनाज की उत्पति प्राचीनकाल से वर्तमान काल की बहुत बड़ी उपलब्धि है जो जीवन को बचाए रखने में महत्पूर्ण भूमिका अदा करती है अनाज की उत्पत्ति कई प्रकार से की जाती है आदिमानव काल से ही भूख की संतुष्टि के लिए अनाज की उत्पति की जाती थी आदिमानवो के द्वारा कुछ ना कुछ फासले उपजाई जाती थी वो अपनी भूख की संतुष्टि के लिए शिकार भी करते थे| इस को जानने के लिए इतिहास को पढना होगा|

लेकिन आज वर्तमान में भूख को संतुष्टि के लिए तरह तरह के अनाज की उत्पति की जाती है और इसकी उत्पति किसानो के द्वारा की जाती है इंसानों की भूख की बात करे तो उनको तीन समय का भोजन अनिवार्य होता है जिसके द्वारा वो अपनी दैनिक दिन चरिया को सुचारू रूप से चलाने में शक्षम होते है

यदि कोई इन्सान पुरे दिन में भोजन के द्वारा अपनी भूख को संतुष्ट नहीं करता तो उसको भूख का एहसास सताता रहता है की उसकी भूख की संतुष्टि जल्द से जल्द हो सके| दुनिया का सातवा सबसे बड़ा देश है भारत के बहुत से ऐसे इलाके है जहा पर पहुचना एक बड़ी चुनौती होती है लेकिन इंसानों ने वहा भी पहुच कर चुनौती को मात दी है यदि इन इलाको में इंसानी सब्यता मिलती है तो उनके लिए भूख को संतुष्ट करने वाले अनाज का महत्व बहुत बढ़ जाता है 

खाना(भोजन) इंसानी शरीर को सुचारू रूप से चलाने के लिए जरुरी है बिना खाना खाए कोई इन्सान जीवित नहीं रह सकता कम से कम इन्सान को दिन में दो समय का खाना (भोजन) जरुरी होता है आज हम देखते है की भारत में ही नहीं कई देशो में बिना खाना खाए लोगो की मौत हो रही है और ये वर्तमान जीवन के लिए एक शर्मनाक बात है हम देखते है कई लोगो को अपने दो वक्त के भोजन के लिए काफी मसकत करनी पड़ती है किसी किसी इन्सान को खाना ही नहीं मिलता तो जिव जन्तुओ को कहा से मिलेगा| वो खाने की तलाश में कूड़े के ढेर में भी खाना तलाश करता मिलता है| वो लोग बहुत खुशकिस्मत है जिनको आसानी से खाना मिल जाता है और वो लोग भी बहुत खुशकिस्मत होते है जो किसी भूखे इन्सान को या जीव जंतु को भोजन खाना खिलते है|

कहते है किसी भी भूखे इन्सान या जीव जन्तु को खाना खिलाना सबसे बड़ा पुर्न्य माना जाता है आज हम देखते है दुनिया में सिखो के धर्मस्थल गुरूद्वारे में लोगो के लिए खाना खिलने की प्रथा चलती आई है और ये प्रथा प्रथम गुरु नानक देव जी के द्वारा शुरू की गई थी| जो वर्तमान में आज तक चलती है और इसी तरह चलती रहेगी| कई मंदिरो में भी भूखे लोगो को खाना खिलाने की प्रथा चलती आई है हम देखते है कई बार लोग भूखे लोगो केलिए खाने (भोजन) की तैयारी अपने घर से ही करते है और भूखे लोगो तक भोजन पहुचाहते है ताकि भूखे लोगो की भूख की संतुष्टि हो सके|

लॉक डाउन में कोरोना काल के दौरान एक राज्ये से दुसरे राज्ये में पलायन करते प्रवासी मजदूरो को भी भूख से तडपते देखा गया| जब शहरो में ये हाल है तो ग्रामीण क्षेत्रो में भूख से क्या हाल होता होगा| जबकि भारत सरकार ने हर व्यक्ति के लिए अनाज की व्यवस्था बहुत अच्छे तरीके से की ताकि कोई व्यक्ति भूख से तडपता हुआ ना मिले| इसमें सरकार की पूरी मदद देश के आम नागरिको और सेवा रक्षा में लगे लोगो ने भी की वो अपनी अपनी तरफ से जितना हो सके लोगो के लिए अनाज की व्यवस्था कर रहे थे| दुनिया में हर साल एक बड़ी मात्रा में अनाज दाल सब्जी खानपान की सामग्री की उत्पति की जाती है जो नागरिको की भूख को संतुष्ट कर सके| लेकिन एक बड़ी आबादी को हर रोज भूखा रहना पड़ता है|

निष्कर्ष=इन्सान ही एक ऐसा प्राणी है जो भूख के एहसास को आसानी से समझ सकता है और किसी भी भूखे इन्सान या जीव जन्तुओ के लिए भोजन का बंदोबस्त कर सकता है यदि वो इस तरह के कार्य करता है तो यह कार्य सबसे बड़ा कार्य कहलाता है जिसको हर इन्सान को निभाना चाहिए|



Reality of hunger

The reality

Hunger is a feeling that breaks any human and there is no human or animal in the world who does not feel hungry, no human can do any work without being hungry. Ever since humans or animals have been born on the earth, it is imperative for a person to feel hungry if there is a person who does not feel hungry. He can be kind to any divine power in this world, but such a person is rarely seen.

Thoughts on hunger
Hunger is the feeling that a person can feel from birth to death, no human can spend his life without being hungry. A person has to arrange at least two meals a day for himself. There are many countries in the world where people have to face hunger and till the death of people due to hunger and this figure is increasing day by day whereas in many countries, people suffering from hunger have been seen. There are many poor countries where the children born there become malnourished even when they are hungry. Hunger makes humans unable to function. If you want to feel the feeling of hungry human beings, then one day we will face the hunger and see the power of that hunger.

Hunger and food

To satisfy hunger, food only gives the human body the power to work. If a person remains hungry for a few days, then he dies until an ordinary person is taught to starve, or at least one or Can stay hungry for two weeks, being hungry reduces his power to fight diseases and he becomes a victim of diseases, but not only India, people in many countries of the world have to stay hungry for many days and many people like Whose whole life is spent in search of food for two times, whereas in the world food is produced in large quantities like

Importance of grain

In the world, it is the grain for the satisfaction of hunger that can beat the hunger, but the production of grains is a very big achievement from ancient times to the present period, which plays an important role in saving life.Grain is produced in many ways.Grain was produced for the satisfaction of hunger from the early human age, some distance was produced by the tribesmen, they also hunted for the satisfaction of their hunger. History has to be read to know this.

But today, in order to satisfy hunger, different types of grains are produced and it is produced by the farmers. Talking about the hunger of humans, it is mandatory for them to have three meals a day, by which they give their daily day to the grapes Are capable of running smoothly

If a person does not satisfy his hunger with food throughout the day, then he keeps on feeling hungry so that his hunger is satisfied as soon as possible. India is the seventh largest country in the world. There are many areas in India where it is a big challenge to reach, but humans have reached there and beat the challenge, if there is human succor in these areas, then those who satisfy the hunger for them The importance of grains increases greatly

Food (food) is necessary for the human body to run smoothly, no human being can live without eating food, at least it is necessary to have food (food) for two times a day, today we see that not only in India In many countries, people are dying without eating food and this is a shameful thing for the present life, we see that many people have to struggle a lot for their two time meals, if any person does not get food, then live Where will animals get from He is also looking for food in the garbage heap in search of food. Those people who are lucky enough to get food easily and those people are also very lucky to feed food to any hungry person or animal.

It is said that feeding food to any hungry person or animal is considered to be the greatest re-birth. Today we see that the practice of feeding food for people has been going on in the Sikh shrine Gurdwara in the world and this practice started by the first Guru Nanak Dev Ji. Was done. Which currently runs till today and will continue to run like this. In many temples, the practice of feeding the hungry people has continued, we see that many times people prepare food (food) for the hungry people from their home.And food is delivered to the hungry people so that the hungry can satisfy their hunger.

Migrant laborers migrating from one state to another during the Corona period in lock-down were also seen suffering. When this is happening in cities, what will happen to hunger in rural areas. Whereas the Government of India arranged the food grains for every person in a very good way so that no person is suffering from hunger. In this, the government's full help was also provided to the common citizens of the country and people engaged in protecting the service, they were arranging food grains for their people as much as possible. Every year a large quantity of food grains and vegetable catering is produced in the world, which can satisfy the hunger of the citizens. But a large population has to starve every day.


Conclusion = Man is the only creature who can easily understand the feeling of hunger and can arrange food for any hungry person or animal, if he does such work, then this work is called the greatest work. Which every person should follow.

Comments

  1. बहुत सही बात भूख ही सब अपराधों की जड़ है जिसे मिलता है उसे महत्व नहीं पता जिसके पास नही है उससे पूछो पर जो मेहनत करके उगा रहा है उसे भी परिश्रम का फल मिलना चाहिए

    ReplyDelete

Post a Comment

Thank you

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

                                                      प्यार की वास्तविकता, वास्तविकता   प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है|  प्यार का एहसास कब और क्यों होता है? प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है| प्यार के एहसास , को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके|   प्यार  के   एहसास पर विचार    प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान प