Skip to main content

Reality of violence and cruelty(हिंसा और हैवानियत की वास्तविकता) By Neeraj kumar

 

हिंसा और हैवानियत की वास्तविकता

वास्तविकता  

दुनिया में इंसानों के द्वारा हिंसा और हैवानियत की खबरे सुनने को मिलती रहती है इन्सान को अपनी ही इंसानी बस्तियों यानि आपस में ही विरोध प्रदर्शनों में बहुत जगह हिंसा करते हुए देखा गया है| हिंसा जब होती है जब इन्सान अपनी माँगो को मनवाने के लिए मारपीट का सहारा लेता है| कई बार इन्सान अपने विचारो के मतभेदों में फंस जाता है| जब विरोध उत्पन्न होता देखता है तो उसमे हिंसा अपनी जगह बना लेती है| धीरे धीरे हिंसा भी अपना वजूद खोने लगती है और वो हैवानियत बन जाती है| कई बार इन्सान इतना क्रूर सोच का हो जाता है| की वो इंसानियत तक को भुला कर हैवान बन जाता है| और हैवानियत करने में कोई संकोच तक नहीं करता| हैवानियत में इन्सान एक दुसरे इन्सान की हत्या नहीं कर देता तब तक उसको शांति नहीं पहुचती| बहुत बार दुनिया में अलग अलग जगहों पर हिंसाओ में हैवानियत होते हुये देखी गई है|हिंसा किसी में भी हो सकती है घर ,परिवार ,समाज ,देश ,दुनिया में हिंसा हो सकती है।

हिंसा और हैवानियत का विचार

हिंसा और हैवानियत दोनों शब्दों में बहुत अंतर है हिंसा बातो बातो में आपस या एक दुसरे के साथ मारपीट तक ही रहती है| जबकि हैवानियत हिंसा से कई गुना आगे निकल जाती है| हैवानियत के लिए इन्सान की सोची समझी साजिश के तहत ही करता है| इसमें इन्सान कैसे एक इन्सान से हैवान बन जाता है| ये उसकी सोच में किस तरह की क्रूरता उत्पन्न होती है| जिसके लिए वो हैवानियत को अपना लेता है|

 

हिंसा और हैवानियत में हैवान बना इन्सान इंसानियत तक का लिहाज नहीं करता| इंसानियत को पीछे छोड़ कर क्रूरता को अपना लेता है जिसमे किसी दुसरे इन्सान का बचना नामुमकिन सा हो जाता है| हमने कई बार अपने दैनिक जीवन में एक समुदाय को दुसरे समुदाय से लड़ते देखा है| कभी कभी हिंसा सरकार या किसी धर्म के प्रति भी होते हुए देखी गई है|  धीरे धीरे वो लड़ाई एक ऐसी हिंसा का रूप ले लेती है| जिसमे किसी भी समुदाय की जान दाव पर लग जाती है| हिंसा धीरे धीरे सोची गई साजिश के तहत हैवानियत के रूप में बदलती जाती है| जिसमे इन्सान की जान की कीमत कुछ नहीं समझी जाती| हिंसा और हैवानियत के रास्ते में जो भी आता जाता है हिंसा और हैवानियत उसको अपनी चपेट में ले लेती है|

 

हिंसा और हैवानियत का कोई महत्व नहीं होता|

हिंसा और हैवानियत, ये समाज की एक ऐसी बुराई है| जिसमे किसी भी उम्र का इन्सान क्यों ना हो वो उसकी जान लेने पर जरा भी संकोच नहीं करती| बूढ़े, बच्चे, महिलाऔ का बचना मुश्किल तक हो जाता है| एक इन्सान दुसरे इन्सान के आशियाने तक को आग के हवाले कर देते है| बरसों की कमाई गई दौलत मिनटों में राख बनकर बिखरी होती है| हिंसा करने वालो की सोच इतनी क्रूरता का रूप ले लेती है| की महिलाओ की ईज्जत को भी नहीं छोड़ा जाता|

इतिहास गवा है आज तक हिंसा करने से किसी का कोई भला नहीं हुआ है| हिंसा करने में जितना एक समुदाय को जिम्मेदार समझा गया है| उतना ही दुसरे समुदाय को भी जिम्मेदार समझा गया है|

 

कई बार कुछ ऐसे इन्सान जो किसी एक समुदाय से वास्ता रखते हुए| ये साबित करने की कोशिश करते है| की वो और उनका धर्म, जाति ,समुदाय ही सर्वश्रेष्ठ है| वो अपनी नफरत के  जहर को इस तरह से घोल देते है| जो इन्सान उस नफरत को अपना लेता है| जिसमे ना चाह कर भी दुसरे धर्म, जाति समुदाय से नफरत अपने आप होने लगती है| और वो इस नफरत की आग में अपने वजूद को खो बैठते है और हिंसा करने के लिए ही उत्तेजित रहते है| वो इन्सान समाज की एकता अखंडता को चकना चूर करने में जरा भी संकोच नहीं करते है| वो मानव धर्म को रोंद कर समाज में आग लगाने का काम करते है|

 

हिंसा और हैवानियत का त्याग  

हिंसा करने की सोच का हमेशा त्याग करना चाहिए| ऐसे इंसानों से दुरी बनाकर रखनी चाहिए जो अपनी नफरतो की आग दुसरो के दिलो में लगाने का काम करते हो| इन्सान को यदि ये लगता है की यहाँ हिंसा होने वाली है| तो सबसे पहले प्रशासन को इसकी जानकारी देनी चाहिए| इन्सान को अपने धर्म जाति समुदाय को हमेशा ये समझाना चाहिए की इन्सान के लिए इंसानियत ही सर्वोपरि है| और इंसानियत किसी भी धर्म जाति समुदाय में हो सकती है और उसको बचाए रखना इन्सान का पहला कर्तव्य होना चाहिए|

 

हिंसा और हैवानियत से बढ़कर इंसानियत

हिंसा में इंसानियत की मिसाल जब बन जाती है जब कोई इन्सान दुसरे इन्सान की जान बचाने के लिए अपनी जान दाव पर लगा देता है| हिंसा में इंसानियत की मिसाल जब बन जाती है जब एक समुदाय दुसरे समुदाय के धर्म ,जाति और समुदायों की रक्षा करते है| हिंसा में इंसानियत जब बन जाती है, जब इन्सान मानवीय मूल्यों को सर्वोपरि मानकर पीड़ित इन्सान की हर संभव मदद करते है|

 

निष्कर्ष

इन्सान का मकसद समाज की भलाई का और प्रगति का होना चाहिए| समाज में हिंसा करने का नहीं होना चाहिए| हिंसा करके हम अपनी ही प्रगति को नुकसान पहुचाते है| और एक इन्सान दुसरे इन्सान को पहुचाता है| हिंसा और हैवानियत कभी भी इंसानियत की जगह नहीं ले सकती इंसानियत के लिए हमेशा हिंसा को त्यागना चाहिए| जिससे इंसानों का समाज प्रगतिशील बन सके|

Reality of violence and cruelty

The reality

In the world, people get to hear the news of violence and cruelty. Human beings have been seen committing violence in their own human settlements i.e. in protests. Violence happens when a person resorts to assault to convince their demands. Sometimes people get caught in differences of opinion. Violence takes its place when opposition is seen. Gradually, violence also begins to lose its existence and becomes a reality. Many times a person becomes so cruel. That he forgets even humanity and becomes a hero. And nobody hesitates to do havoc. Humanity does not kill one person in another, till then peace does not reach him. Many times, violence has been seen in different places in the world.

Thoughts of violence and cruelty

There is a lot of difference between the words of violence and demeanor. Violence is always in a conversation with each other or with each other. Whereas violence overtakes violence many times. He thinks only of human beings for the sake of humanity. In this, how does a human become a human. What kind of cruelty arises in his thinking. For which he adopts humanity.

 

A person who has become a victim of violence and humanity does not even consider humans. Leaving mankind behind and adopts cruelty, in which the survival of another person becomes impossible. Many times in our daily life we ​​have seen one community fighting another community. Sometimes violence has also been observed towards the government or any religion. Gradually, that fight takes the form of such violence. In which the life of any community is at stake. Violence gradually changes into a form of gaiety under the thought plan. In which the value of human life is not considered. Whatever comes in the way of violence and havoc, violence and haughtiness engulfs him.

 

Violence and cruelty have no importance.

Violence and cruelty is such an evil in society. In which there is no human of any age, he does not hesitate at all to take his life. Avoidance of old, children, women becomes difficult. A person burns a person's body to fire. Years' worth of wealth is scattered as ash in minutes. The thinking of those who commit violence takes the form of such cruelty. The respect of women is not left out.

 

History is lost till date nobody has benefited from violence. As much as a community has been deemed responsible for committing violence. Equally, other communities have also been considered responsible.

 

Many times some people who are related to one community. They try to prove it. That he and his religion, caste, community is the best. They dissolve the poison of their hate in this way. The person who adopts that hatred. In which, even after not wanting, hatred of other religion, caste community starts happening automatically. And they lose their existence in the fire of this hatred and are incited to commit violence only. They do not hesitate at all to break the unity integrity of human society. They work to set fire to society by crushing human religion.

 

Violence and Abandonment

The idea of ​​violence should always be discarded. One should keep a distance from such human beings who work to put the fire of their hatred in the hearts of others. If a person feels that violence is going to happen here. So first of all the administration should inform about this. Human beings should always convince their religion caste community that humanity is paramount for human beings. And humanity can be in any religion caste community and it should be human's first duty to protect it.

 

Humanity surpasses violence and cruelty

Humans become an example of violence when a person puts his life on the stake to save another person's life. Humans become an example in violence when one community protects the religion, caste and communities of another. When humanity becomes human in violence, when human beings consider human values ​​to be paramount, they provide all possible help to the victims.

 

The conclusion

The aim of a human being should be for the betterment of society and progress. There should not be violence in the society. By violence, we damage our own progress. And one person reaches another person. Violence and humanity can never replace humanity, violence should always be abandoned for humanity. So that the society of humans can become progressive.  

             

Comments

Post a Comment

Thank you

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

                                                      प्यार की वास्तविकता, वास्तविकता   प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है|  प्यार का एहसास कब और क्यों होता है? प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है| प्यार के एहसास , को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके|   प्यार  के   एहसास पर विचार    प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान प