Skip to main content

Reality of simplicity and beauty(सादगी और सुन्दरता की वास्तविकता) By Neeraj kumar

 

सादगी और सुन्दरता की वास्तविकता

वास्तविकता

सुन्दरता ईश्वर के द्वारा दिया गया रंगरूप है| जिसको पाकर इन्सान लाखो में पहचाना जा सकता है तो सादगी भी वो स्वभाव होता है जिसको कोई कोई इन्सान अपने जीवन में बना के रखता है कहते है सुन्दरता भी हमेशा सादगी में ही दिखती है| सुन्दरता का आकर्षण इंसानों को अपनी और खिचता है और मनमोहक कर देता है सुन्दरता की बात करे तो ईश्वर बहुत से जीव जन्तुओ में भी सुन्दरता देता है, जिसको देखकर इन्सान मनमोहक और मनभावन होता है। इंसानी सुन्दरता की बात करे तो सबसे पहले रंगरूप की बात होती है। रंगरूप वो रूप रेखा है जिसको देख सामने वाले उसकी रूप के आकर्षण में इस तरह खो जाते है, जैसे उन पर कोई जादू कर दिया गया हो| वही सादगी की बात करे तो सादगी का आकर्षण भी इंसानों को अपनी और आकर्षित करता रहता है। कई इन्सान सादगी में भी सुन्दरता को बखूबी पहचान लेते है|

सादगी और सुन्दरता का विचार

कहते है सुन्दरता का कोई अंत नहीं है, किसी एक सुंदर इन्सान या वस्तुओ की बात या खोज की जाये तो अनेको सुंदर एक के बाद एक मिलते रहते है यदि किसी एक सुंदर इन्सान की बात चलती है तो उसके साथ साथ दुसरे सुंदर इंसानों की भी बात होती है| क्योकि ईश्वर ने अलग अलग रंगरुप के जरिये इंसानों की बनावट की है जिसको देख कोई भी लालच करता रहता है| यदि सुन्दरता के साथ साथ किसी इन्सान में सादगी भी मिलती है तो उस इन्सान की सुन्दरता और भी ज्यादा बढ़ जाती है| जितना सादगी में सुन्दरता झलकती है, उतनी श्रृंगार में नहीं झलकती। क्योकि श्रृंगार के द्वारा ऊपरी बनावट का महत्व इतना नहीं होता| श्रृंगार के हटते ही इंन्सान का सही रूप निकल आता है जो उसने श्रृंगार की मदद से बनाया हुआ था|

सादगी और सुन्दरता का महत्व

सुन्दरता का एक अपना महत्व है तो सादगी का भी एक अपना महत्व है| सादगी में सुन्दरता के महत्व को पहचानना बहुत महत्वपूर्ण समझा जाता है। सुन्दरता वो धन माना जाता है, जो कभी कमाया नहीं जाता| वो तो ईश्वर के द्वारा ही दिया जाता है किसी को कितना सुंदर बनाया है| सुन्दरता के धन का महत्व भी तभी चलता है| जब उसकी सुन्दरता की प्रशंसा दुसरो के द्वारा की जाती हो| ईश्वर ने इसको फुर्सत से बनाया है|

 

सादगी भी एक ऐसा धन है जिसको कमाया नहीं जाता सादगी का महत्व किसी किसी इन्सान के पास ही मिलता है| सादगी का महत्व समझने के लिए हम उन इंसानों की प्रशंसा कर समझ सकते है जो अपने जीवन में एक ऐसे मौकाम पर होते है| जिसमे कोई बनावट की गुंजाईश नहीं होती| जिन्होंने  सादगी भरे जीवन को ही अपने जीवन का एक आधार बना लिया होता है

 

दुनिया में बहुत से इन्सान हुए है जिनको ईश्वर ने सुन्दरता तो दी ही लेकिन उन्होंने अपने सादगी भरे स्वभाव से अपनी सुन्दरता को और निखार लिया होता है उनको ये बेहतर पता होता है की  जीवन में सुन्दरता को बनाये रखना है तो हमेशा सादगी का स्वभाव ही बेहतर होता है| जो जीवन के अंत तक बना रहता है| 

निष्कर्ष

सादगी और सुन्दरता का मिश्रण एक ऐसा स्वभाव होता है, जिसमे ऊपर से की गई बनावट का कोई महत्व नहीं होता| सुन्दरता का धन ईश्वर से मिलता है तो सादगी का धन भी  स्वयं का स्वभाव होता है| जो किसी से खरीदा या बेचा नहीं जाता| 


Reality of simplicity and beauty

The reality

Beauty is a God-given look. The person who can be recognized in lakhs after getting it, then simplicity is also the nature that a person keeps in his life and says that beauty is always seen in simplicity itself. The attraction of beauty attracts humans more and makes it attractive, when it comes to beauty, God gives beauty in many living creatures too, seeing that it is attractive and pleasing to humans, when it comes to human beauty, first of all it is the matter of color. The look is the form on which the front faces are lost in the charm of its form, as if a spell has been cast upon them. If we talk about simplicity, then the attraction of simplicity also attracts humans and many people recognize beauty beautifully in simplicity too.

Thought  of ​​simplicity and beauty

It is said that there is no end to beauty. If one beautiful person or thing is talked about or searched, then many beautiful people are meeting one after the other. If there is talk of one beautiful person, then there will be talk of other beautiful human beings as well. Is Because God has created human beings through different colors, which anyone is lured by seeing. If, along with beauty, simplicity is found in a person, then the beauty of that person increases even more. As much as beauty is seen in simplicity, it is not reflected in Singar because the upper texture is not so important by Singar. As soon as Singar is removed, the correct form of human life comes out which was made with the help of Singar.

Importance of simplicity and beauty

While beauty has its own importance, simplicity also has its own importance. It is considered very important to recognize the importance of beauty in simplicity, beauty is considered to be wealth that is never earned. That is given by God, how beautiful someone has been made. The importance of the wealth of beauty also goes on. When his beauty is praised by others. God has made it leisurely.

Simplicity is also a wealth that is not earned, the importance of simplicity is found only with some human. To understand the importance of simplicity, we can understand and appreciate the human beings who are at such a chance in their lives. There is no scope of texture. Who has made simplistic life a cornerstone of their life


There have been many humans in the world whom God has given beauty to, but they have enhanced their beauty with their simplicity and they know better that to maintain beauty in life, then the nature of simplicity is always better It happens. Which lasts till the end of life.

The conclusion

A mixture of simplicity and beauty is such a nature in which the texture made from the uppers does not matter. If the wealth of beauty comes from God, then wealth of simplicity also has its own nature. Which is not bought or sold by anyone.  

 

Comments

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

                                                      प्यार की वास्तविकता, वास्तविकता   प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है|  प्यार का एहसास कब और क्यों होता है? प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है| प्यार के एहसास , को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके|   प्यार  के   एहसास पर विचार    प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान प