Skip to main content

The Reality of infection and caution(संक्रमण और सावधानी की वास्तविकता) By Neeraj kumar

 

संक्रमण और सावधानी की वास्तविकता

संक्रमण से हमेशा सावधानी ही बचाती है| संक्रमण एक ऐसा शब्द है, जो किसी भी इन्सान के मन में डर पैदा कर देता है| किसी भी संक्रमण से इन्सान को उसकी सावधानी ही बचा सकती है| दुनिया में कही भी संक्रमण हो सकता है| संक्रमण कीटाणुओं की एक ऐसी गुत्थी होती है, जो एक के बाद एक इन्सान को उसकी चपेट में ले जाती है| संक्रमण की चपेट में आया हुआ इन्सान कभी बच निकलता है तो कभी इसका शिकार बन जाता है| दुनिया में बहुत से ऐसे संक्रमण है, जो एक इन्सान से दुसरे इन्सान में तेजी से फैल जाते है|

 

संक्रमण बहुत से पशु पक्षियों से भी हो जाता है| संक्रमण से बचाव की बहुत सारी सावधानियां है जिसको अपना कर इन्सान संक्रमण से फैलने वाले रोगों से बच निकलता है| वैसे तो सावधानी किसी एक रोग के लिए नहीं बल्कि कई रोगों से बचने के लिए करनी होती है| लेकिन कभी कभी दुनिया में कुछ संक्रमण ऐसे भी होते है, जो इन्सान को सावधानी करने का मौका तक नहीं देते| इसलिए यदि इन्सान पहले से उस संक्रमण से बचाव के तौर तरीको को अपनाता है तो उसका जीवन बच सकता है|

संक्रमण और सावधानी का विचार

संक्रमण और सावधानी का विचार ही इन्सान के लिए और दुसरे इंसानों के लिए बिल्कुल उस मौड़ की तरह है जिसमे इन्सान को पता होता है की यदि मैने इस मौड़ को पार किया तो में इसके जाल में फंस सकता हु| संक्रमण की बात की जाये तो आज दुनिया में कोरोना का संक्रमण इतनी तेजी से फैल रहा है और इंसानों की जान ले रहा है| करीब पिछले एक साल से भी ज्यादा समय से इस संक्रमण ने दुनिया के लाखो लोगो की जान ली और अभी भी दुनिया में इसका कहर जारी है| ना जाने कितने परिवारों को इस संक्रमण ने अपनी चपेट में ले लिया है|

 

संक्रमण से इन्सान को उसकी सावधानी ही बचा सकती है| अभी तक इस संक्रमण से जो इन्सान बचे हुए है, वो अपने द्वारा की गई सावधानी की वजह से ही बचे हुए है| यदि वो इन्सान भी संक्रमण से सावधानी रखना छोड़ दे तो, वो भी इसकी चपेट में आ सकते है और अपने जीवन को मृत्यु से लड़ने के लिए मजबूर कर सकते है| संक्रमण कोई वर्तमान में ही नहीं बल्कि भूतकाल में भी हुआ है और तब भी उन इंसानों ने संक्रमण को हराया था जो सावधानी बरतते थे|

संक्रमण से नुकसान     

संक्रमण इन्सान के जीवन का वो दुश्मन है, जिसका रूप किसी भी इन्सान के सामने नहीं होता| एक ऐसा दुश्मन जो अदृश्य है, जो किसी भी इन्सान पर दया नहीं करता| संक्रमण से इन्सान अपने जीवन को तो खो देता है और अपने परिवार के लिए भी मुश्किलें खड़ी कर देता है| परिवार का कोई भी सदस्य जब किसी संक्रमण की चपेट में आ जाता है, तो परिवार के सभी सदस्यों पर इसकी चिंता बन जाती है| जिसमे परिवार के सदस्य चिंता में रहकर अपना कोई काम नहीं कर पाते| इन्सान जो भी अपना कार्य करता है उस कार्य को भी सही तरीके से नहीं कर पाता| संक्रमण ना उम्र देखता है और ना कोई दया भाव दिखता है| ये ऐसा दुश्मन होता है जो इन्सान के जीवन को मृत्यु से लड़ने के लिए कोशिश करता रहता है| जो इन्सान संक्रमण से बच गया, वो उसकी किस्मत और जो इन्सान नहीं बच सका वो उसका दुर्भाग्य|

संक्रमण से सावधानी

सावधानी से ही पता चलता है की इस शब्द में स्वयं इन्सान की रक्षा छिपी होती है| संक्रमण से बचने के लिए सावधानी से बड़ा हथियार इन्सान के पास नहीं होता| जो संक्रमण से लड़ सके| सावधानी ही वो हथियार है, जो इन्सान को किसी भी संक्रमण से बचाके रखती है| सावधानी शब्द को समझते हुए जान सकते है की जो इन्सान सावधानी करता है, वो ना तो संक्रमण का शिकार बनता है और ना दुसरे इंसानों को इसका शिकार बनने देता है| सावधानी के बहुत से तौर तरीके है जिसको इन्सान को अपनाना चाहिए, जो इन्सान को संक्रमण से बचाते है| जैसे वर्तमान समय में कोरोना संक्रमण से बचने के तौर तरीके इन्सान को इस खतरनाक संक्रमण से बचा रहे है, उन सभी तौर तरीको को इन्सान को अपनाना चाहिए|

सावधानी के फायदे

सावधानी से इन्सान संक्रमण का शिकार नहीं होता| सावधानी से इन्सान को अपने शरीर को वो कष्ट नहीं भोगना पड़ता जो संक्रमण से ग्रस्त इन्सान को भोगना पड़ता है| सावधानी इन्सान के परिवार को भी संक्रमण से बचा के रखते है| सावधानी, इन्सान का वो समय बचा सकते है जिसकी कीमत स्वयं समय ही देता है| सावधानी से इन्सान अपनी धन दौलत को भी बचा सकते है| सावधानी से इन्सान समाज के लिए भी फायेदेमंद सिद्ध हो सकता है|

निष्कर्ष

इन्सान संक्रमण का शिकार हो सकता है, लेकिन यदि उसके साथ सावधानी रहती है तो इन्सान संक्रमण से बच सकता है| 



The Reality of infection and caution

Caution always protects against infection. Infection is a word that instills fear in the mind of any human being. Only a person can save his caution from any infection. An infection can occur anywhere in the world. Infection is a node of germs, which engulfs one person after another. The person who is caught in the infection sometimes escapes and sometimes becomes a victim of it. There are many such infections in the world, which spread rapidly from one person to another.

 

Infection is also caused by many animal birds. There are many precautions to protect against infection, by adopting which one can get rid of diseases spread by human infection. By the way, caution is not to be taken for any one disease, but to avoid many diseases. But sometimes there are some infections in the world, which do not even give a person a chance to be cautious. Therefore, if the person already adopts the methods of prevention from that infection, then his life can be saved.

 of infection and caution

The idea of ​​infection and caution is for human beings and for other humans, it is exactly like that, in which the human being knows that if I have overcome this problem, then I can get trapped in its trap. Talking about infection, today corona infection is spreading so fast in the world and is killing humans. For more than a year, this transition has killed millions of people in the world and still continues to wreak havoc in the world. Do not know how many families have been affected by this infection.

 

Only his caution can save a person from infection. So far, the person who has survived from this infection is due to the precautions taken by him. If that person also stops taking care of infection, then they too can fall prey to it and can force their lives to fight against death. The infection has not happened in the present, but also in the past and even then, those humans who defeated the infection were careful.

Infection damage

Infection is the enemy of human life, whose form is not exposed to any human. An enemy who is invisible, who does not pity any human being. A person loses his life due to infection and also creates problems for his family. When any member of the family is hit by an infection, it becomes a concern for all the family members. In which the family members are unable to do any work of their own in worry. The person who does his work is not able to do that work properly. The infection neither sees age nor shows any kindness. This is such an enemy who keeps trying to fight the life of a person to death. The person who survived the infection, his fate and the human who could not survive his misfortune.

Infection caution

Carefully it is known that the defense of human self is hidden in this word. The person does not have a large weapon carefully to avoid infection. Who can fight infection Caution is the weapon that protects the human from any infection. By understanding the word caution, you can know that the person who cautions, he neither becomes a victim of infection nor allows other humans to fall prey to it. There are many methods of caution that humans should adopt, which protects the person from infection. Just as in the present time, ways to avoid corona infection are protecting humans from this dangerous infection, all those methods should be adopted by humans.

Caution measures

Careful humans do not fall prey to infection. Carefully, a person does not have to suffer the body suffering from infection. Caution also protects the family of humans from infection. Caution can save the time of the person, whose time itself is worth it. Carefully, humans can save their wealth as well. Caution can prove beneficial for human society as well.

The conclusion

A person can be a victim of infection, but if he is cautious with it, a person can avoid infection. 

Comments

Post a Comment

Thank you

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

                                                      प्यार की वास्तविकता, वास्तविकता   प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है|  प्यार का एहसास कब और क्यों होता है? प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है| प्यार के एहसास , को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके|   प्यार  के   एहसास पर विचार    प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान प