Skip to main content

Reality of Information and news(सूचना और समाचार की वास्तविकता) By Neeraj kumar


सूचना और समाचार की वास्तविकता

सूचना और समाचार दोनों शब्दों की वास्तविकता में कोई बात एक इन्सान के द्वारा दुसरो को बताई जाती है यानी दोनों शब्दों की वास्तविकता एक दुसरे से पूरी तरह जुडी हुई है| सूचना को इन्सान एक दुसरे को दी जाने वाली जानकारी के आधार से देख सकता है| सूचना  कोई भी इन्सान किसी भी इन्सान को दे सकता है सूचना  सही भी हो सकती है तो सूचना  गलत भी हो सकती है| जबकि समाचार की बात की जाये तो इन्सान को अपने दैनिक जीवन में जितनी भी देश दुनिया की जानकारी प्राप्त होती है, वो समाचारों के द्वारा ही प्राप्त होती है| समाचार सामान्य भी हो सकते है तो समाचार असमान्य भी हो सकते है| समाचार को दिन रात, कभी भी देखा सकता है| समाचार देश दुनिया की सही खबरों को दिखाते है| अलग अलग देश में अलग अलग तरह के समाचार दिखाये जाते है| समाचार से घर बैठे इन्सान को वो जानकारी प्राप्त हो जाती है जो उसको किसी और इन्सान के सूचना देने पर नहीं मिलती| समाचार सभी क्षेत्र की जानकारी दुनिया के सामने लाते है| समाचार, सूचना की प्रमाणिकता को सही तरह से दुनिया के सामने लाते है|

सूचना और समाचार का विचार

सूचना  और समाचार का विचार करे तो इन्सान जब किसी दुसरे इन्सान को किसी बात की सूचना देता है तो वही सूचना व्यवसाय तौर पर समाचार बन जाती है| सूचना मिलने या देने पर किसी तरह का कोई भुक्तान नहीं करना पड़ता| लेकिन समाचार जब भी देखा जाता है तो उसके लिए इन्सान को पैसे का भुक्तान करना पड़ता है| यानि टीवी के द्वारा सूचना गुप्त रूप से दी जाने वाली एक ऐसी जानकारी होती है| जिसकी खबर किसी दुसरे को नहीं पता चलती| जबकि समाचार में किसी तरह की कोई जानकारी को गुप्त नहीं रखा जाता, वो सार्वजनिक तौर पर दुनिया के सामने रखी जाती है| सूचना में एक या दो इंसानों को सूचना मिलती है, जबकि समाचार देश और दुनिया तक के इंसानों को मिल जाती है| सूचना के लिए किसी प्रमाणिकता की जरुरत नहीं होती, लेकिन समाचार को बताने में सही और सच्ची प्रमाणिकता की जरूरत होती है| सूचना का कभी भी सीधा प्रशारण नहीं दिखाया जा सकता जबकि समाचार का सीधा प्रशारण दिखाया जा सकता है|  

सूचना और समाचार का महत्व

समाचार का महत्व, आज दुनिया के सामने अपने आप ही है| समाचार व्यवसाय तो बन चूका है, लेकिन समाचार से घर बैठे इन्सान को आसानी से देश दुनिया की सारी खबर मिल जाती है| समाचार अच्छे भी लगते है तो समाचार बुरे भी लगते है| समाचार को नियमित तौर पर सुना या देखा जा सकता है| समाचार से जुड़े इंसानों को पत्रकारिकता के जरिये ही काम करने का मौका मिलता है| समाचार के लिए इंसानों को एक जगह से दूसरी जगह पर जाना पड़ता है| समाचार सुनाने के लिए कई बार पत्रकारों को उन खतरनाक जगहों पर भी जाना पड़ता है, जहाँ जाना बहुत मुश्किल हो जाता है| इन्सान को समाचार देने या सुनाने में अपने जीवन को जोखिम में भी डालना पड़ता है| समाचार द्वारा प्राप्त सूचनाओ से हमारे दैनिक जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता है, समाचार द्वारा प्राप्त सूचनाये कभी सकारात्मकता को लाती है तो कभी नकारात्मकता को लाती है|   

 

सूचना एक ऐसा सन्देश है, जिसमे एक इन्सान किसी दुसरे इन्सान को या कई इंसानों को सूचित कर सकता है| लेकिन वह सूचना को सावर्जनिक तौर पर उसका प्रचार या प्रशारण नहीं कर सकता या नहीं दे सकता, क्योकि सूचना कभी सही भी हो सकती है| तो सूचना कभी गलत भी हो सकती है| सूचना की प्रमाणिकता यदि सही मिलती है| तो तभी वो सावर्जनिक बन सकती है| और यदि सूचना गलत मिलती है तो उसको किसी दुसरे को बताना स्वयं उस इन्सान के सूचित करने पर प्रश्न बन जाता है| सूचना पत्र या संदेशो के द्वारा ही दी जाती है वर्तमान जीवन में सूचना देने के बहुत सारे उपकरण इन्सान के पास है जिससे वो एक साथ कई इंसानों को सूचित कर सकते है| जबकि सूचना की प्रमाणिकता स्वयं उस इन्सान के हाथो में होती है जो अपने द्वारा दी जा रही सूचना को कई दुसरे इनसो तक पहुचता है| सूचना एकत्रित करने में आज बहुत आसानी हो गई है| उसकी प्रमाणिकता के लिए विडियो ग्राफी भी की जाती है| सूचना साधारण भी हो सकती है तो सूचना असाधारण भी हो सकती है  

 

सूचना और समाचार की वास्तविकता इन्सान को उन सभी बातो की जानकारियों से आगाह कर देती है, जिसमे कोई इन्सान को दूर दराज बैठे ही उस बात की जानकारी मिल जाए| सूचना और समाचार भी एक इन्सान दुसरे इन्सान के जरिये भी प्राप्त कर सकता है| सावर्जनिक तौर पर रहने वाले इंसानों के जीवन में वर्तमान में आज ऐसी कोई बात नहीं छुप सकती जो गुप्त रूप से रखी जा सके| इन्सान को समाचारों के जरिये उनकी सभी बातो की सूचना या तो किसी न किसी से प्राप्त हो जाती है या समाचारों में इसकी जानकारी मिल जाती है| सूचना और समाचारों के लिए इंसानों के द्वारा बनाए गए उपकरण से भी देखा जा सकता है|

निष्कर्ष

इन्सान के जीवन में सूचना और समाचार का बहुत महत्व होता है| सूचना हमें उन सभी विषय वस्तुओ की जानकारी दे देती| जो इन्सान के लिए जरुरी होती है जिसका असर इन्सान के जीवन पर लगातार पड़ता रहता है| सूचना और समाचार हमेशा इन्सान को सकारात्मक वाले देखने चाहिए, हमेशा नकारात्मक वाले समाचार और सूचना से हमेशा दूर रहना चाहिए| 



Reality of Information and news

In the reality of both the words of information and news, something is told by one person to the other, that is, the reality of both the words are completely related to each other. The information can be seen by the human being based on the information given to each other. Information can be given by any person to any person; information can be correct, information can also be wrong. While talking about the news, the information that the world receives in its daily life, is received only through the news. News can be general, so news can also be uneven. You can watch the news day and night, anytime. News countries show the true news of the world. Different types of news are shown in different countries. The person sitting at home gets the information from the news, which he does not get when he gives information of any other person. News brings information of all fields to the world. News brings the authenticity of information right in front of the world.

Thought of ​​information and news

When considering information and news, when a person gives information about something to another person, then that information becomes commercially news. One does not have to make any kind of payment on receiving or giving information. But whenever the news is seen, a person has to pay money for it. That is, such information is secretly given through TV. Whose news is not known to anyone else. While no information of any kind is kept secret in the news, it is kept publicly in front of the world. In the information, one or two humans get information, while the news is available to the people of the country and the world. Information does not require any credentials, but true and true credentials are needed to tell the news. Direct circulation of information can never be shown whereas direct circulation of news can be shown.

 

Importance of information and news

The importance of news is in front of the world today. News business has been formed, but the person sitting at home from the news gets all the news of the country easily. News looks good, then news looks bad. News can be heard or seen regularly. Humans associated with the news get an opportunity to work only through journalism. Humans have to travel from place to place for news. In order to tell the news, journalists sometimes have to go to those dangerous places, where it becomes very difficult to go. A person has to risk his life in giving or telling news. The information received by the news has a great impact on our daily lives, the information received by the news sometimes brings positiveness and sometimes negativeness.

 

Information is a message in which one person can inform another person or many humans. But he cannot or does not publicly promote or disseminate the information, because the information may be correct at any time. So the information can sometimes be wrong. If the authenticity of the information is found correct. Then only she can become public. And if the information is found wrong, then telling it to someone else becomes a question on informing the person himself. Information is given only through letters or messages. In present life, many people have tools to give information, so that they can inform many people simultaneously. While the authenticity of the information is in the hands of the person himself who reaches the information given by him to many others. Today it has become very easy to collect information. Video graphy is also done for its authenticity. Information can be simple, information can also be extraordinary.

 

The reality of information and news warns the human being of all those things, in which a person can get information about that while sitting far away. Information and news can also be obtained by a person through another person. There is no such thing that can be kept secretly in the present day life of public living human beings. A person gets information about all his talks either through news or gets his information in the news. The tools made by humans for information and news can also be seen.

The conclusion

Information and news are very important in the life of a person. The information would give us information about all those things. Which is necessary for a human being, which has an impact on the life of a human being. Information and news should always be viewed by positive people, always away from negative news and information.

  


Comments

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

                                                      प्यार की वास्तविकता, वास्तविकता   प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है|  प्यार का एहसास कब और क्यों होता है? प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है| प्यार के एहसास , को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके|   प्यार  के   एहसास पर विचार    प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान प