Skip to main content

The Reality of Hindu and Hindustan(हिन्दू और हिंदुस्तान की वास्तविकता) By Neeraj kumar

 

हिन्दू और हिंदुस्तान की वास्तविकता

हिन्दू  धर्म एक ऐसा धर्म जो दुनिया में सबसे पहले हुआ | जिसका इतिहास करीब 10 हजार साल से भी पुराना मिलता है| जिसके प्रमाण अभी भी कही ना कही मिल जाते है| जो सत युग से त्रेता युग से द्वापर युग से कलयुग तक पहुच सका है| हर युग में हिन्दू धर्म के महत्व को समझाया गया है|

हिंदुस्तान एक ऐसा देश है जो दुनिया का सातवाँ सबसे बड़ा देश माना जाता है| जिसको समुन्द्र ने तीनो और से घेर रखा है| हिंदुस्तान वो देश है| जहाँ स्वयं देवी देवताओ का वास है| जो स्वयं हिन्दू धर्म के लिए सही साबित होते है| हिमालय से कन्याकुमारी तक ना जाने कितने तीर्थ स्थल है| जो हिन्दुओ की आस्था के प्रतीक माने जाते है

हिन्दू और हिंदुस्तान दोनों की वास्तविकता एक दुसरे से पूरी तरह जुडी हुई है| हिंदुस्तान एक ऐसा देश है जिसमे हर राज्य की अपनी एक भाषा होते हुए भी अपने आप में एकता का प्रतीक है| हिंदुस्तान की कोई मात्र भाषा नहीं है| सिर्फ हिंदुस्तान की राज भाषा हैहिंदी जो सविधान लागू होने के बाद से मानी जाती है| हिंदुस्तान पर प्रचीन काल से ही दुसरे देशो की नजर बनी रही और आज भी पडोसी देशो की नजर हिंदुस्तान की धरती पर बनी हुई है| 

हिंदुस्तान ने अपने इतिहास में कई ऐसे आक्रमणों को झेला है जिसमे उसके अस्तित्व हिन्दू धर्म को मिटाने की पूरी कोशिश की गई लेकिन ईश्वर की कृपया और पूर्वजो के संस्कारो ने हिन्दू को कभी भी झुकने नहीं दिया| क्योकि हिंदुस्तान के रहने वाले हिन्दुओ ने हमेशा से उसकी शरण में आये हुए दुसरे धर्म के शरणार्थीयो को अपनाया है|

 

हिन्दू धर्म पहले पूरी धरती पर व्यक्त हुआ करता था जिसके अवशेष हिंदुस्तान के अलावा किसी और देश में अभी भी कही ना कही मिल जाते है| हिन्दू धर्म की देवी देवताओ की मूर्तियों का मिलना इस बात का सबूत है की धरती के कई देशो पर पहले हिन्दू धर्म ही व्यक्त हुआ करता था जो आज दुनिया का मात्र एक ऐसा धर्म है जिसका इतिहास कही से भी पढ़ा जाए वो हिन्दुत्व को व्यक्त करता है|  हिन्दू धर्म मानता है सृष्टि की उत्पति हुई है जिसमे परमात्मा को आत्मा का ही स्रोत माना गया है और ये कार्य कई युगों से हुआ है| जिसमे बताया गया है की अंधकार से आकाश ,आकाश से वायु ,वायु से अग्नि, अग्नि से जल और जल से पृथ्वी की उत्पति हुई है पृथ्वी ,जल ,वायु , अग्नि ,आकाश , मन , बुद्धि यह प्राक्रतिक के रूप है जिसमे हिन्दू धर्म को पूर्ण रूप से देखा जा सकता है|

 

हिन्दू और हिंदुस्तान का विचार

हिन्दू धर्म कोई विचार नहीं ये वास्तविकता की वो सच्चाई है| जिसमे इन्सान को ये पता चलता है की उसके जन्म का क्या उदेश्य है। हिन्दू धर्म में कई सारे ऐसे शास्त्र है जो इन्सान को उसके पिछले जन्म से भी रूबरू करवा सकते है। जिसमे से एक ज्योतिष शास्त्र है जिसमे इन्सान अपने जीवन की पूरी वास्तविकता को जान सकता है|

 हिंदुस्तान का विचार कई हजारो वर्ष से इंसानों के मन में बना रहा है। जो आज भी कही ना कही सिद्ध होते हुए दिखता है। हिंदुस्तान की धरती को प्रकृति का आशीर्वाद मिला हुआ है जिसमे जीवन को बहुत आसानी से जीने का विचार उत्पन दिखता है हिंदुस्तान से निकल कर ही कई देशो की उत्पति हुई है जो जो पहले हिंदुस्तान का ही एक हिस्सा हुआ करते थे जहाँ आज भी हिन्दू धर्म के शक्ति पीठ मंदिरों को देखा जा सकता है| 

हिन्दू और हिंदुस्तान ने कभी भी किसी दुसरे धर्म पर अपनी कोई प्रतिकिर्या नही करता क्यों की कही ना कही उन धर्मो की उत्पति ही हिन्दू धर्म से निकल कर की गई|हिन्दू धर्म में ऐसे विद्वान हुये है जिन्होंने ब्रह्मांड की पहेलियों को हजारों सालों पहले ही खोज निकाला था। और आज भी दुनिया उनकी इस विद्या पर ही ब्रह्मांड की पहेलियों को सुलझने का काम कर रही है। हिंदुस्तान की धरती पर प्रकृति का एक ऐसा रूप देखने को मिलता है| जो कही देखने को नहीं मिलता|

हिन्दू धर्म के इतिहास पर नजर डाले तो धार्मिक मान्यताओ के अनुसार धर्म ग्रन्थ है| जिसमे हिन्दू धर्म को वास्तविकता में समझाया गया है। रामायण, महाभारत पुराणों की कथाये जिसमे हिन्दू धर्म की उत्पप्ति के प्रमाण मिलते है| जिसमे सूर्य और चन्द्र्वंशी राजाओ की परम्परा के उल्लेख भी उपलब्ध है|

हिन्दू और हिंदुस्तान का महत्व

हिन्दू सनातन धर्म जो अपने आप में एक ऐसा धर्म है जो कई युगों से चलता आ रहा है|  जिसकी वास्तविकता स्वयं इन्सान को धार्मिक बनाती है हिन्दू सभ्यता के सबसे प्राचीन ग्रंथों को वेद कहा गया है जो संस्कृत शब्द से बना है| हिन्दू शब्द को समझने के लिए इन्सान वेदों को पढ़ और समझ कर ये जान सकता है की ब्रह्मांड की उत्पप्ति किस प्रकार की गई थी जिसमे स्वयं ईश्वर ने हर एक विषय वस्तु को किस तरह स्थापित किया है जो अपने आप में एक दुसरे से जुडी हुई है जो ये साबित करती है की हिन्दू धर्म के मार्ग दर्शन से ही इन्सान का अस्तित्व साबित हो सकता है हिन्दू धर्म की उत्पप्ति स्वयं ईश्वर के द्वारा की गई| जिसमे कई चरणों के अनुसार बताया गया है| की ईश्वर ने स्वयं हिन्दू धर्म में जन्म लेकर इस ब्रह्मांड का निर्माण किया था| हिन्दू धर्म में अग्नि से आकाश आकाश से वायु वायु से पृथ्वी पृथ्वी से जल और जल से जीवन को समाहित किया हुआ है| जो अलग अलग तत्वों को बताने की प्रक्रिया को पूरा करते है|

 

हिन्दुतान को भारत के नाम से पहचाना जाता है| हिंदुस्तान का महत्व पूरी दुनिया में ही माना जाता है हिंदुस्तान पूर्व से पश्चिम उत्तर से दक्षिण तक जनसँख्या से समाहित है| हिंदुस्तान की सीमा 7 देशो से लगती है| हिंदुस्तान के कई राज्य है जो पूर्वी एशिया से मिलते जुलते है जिनकी भाषा दो देशो को जोड़ने का काम करती है| हिंदुस्तान से निकलने वाली सिन्धु नदी से लेकर हिन्द महासागर तक को व्यक्त करती है| हिंदुस्तान हमेशा से ही एक धार्मिक देश माना जाता है जहाँ हर दिन हिन्दू देवी देवता के त्यौहारों को मनाते हुए देखा जाता है| हिंदुस्तान आस्था का वो स्थल है| जहाँ इन्सान को मुक्ति का मार्ग मिलता है| हिंदुस्तान में सभी जाति धर्म के लोग निवास करते है| हिंदुस्तान ने अपने हर युग में बाहरी आक्रमणों को झेला है दुनिया की दुसरे स्तर की  सबसे बड़ी जनसंख्याँ वाला देश हिंदुस्तान है| जिसमे अलग अलग धर्म को मानने वाले इन्सान निवास करते आये है| हिंदुस्तान से कई नदिया निकलती है जो एक बड़ी जनसंख्या को जीवन देते हुए समुन्द्र में समाहित हो जाती है| हिंदुस्तान के इतिहास में बहुत से रोचक तत्व है जिसको जानने के लिए अलग अलग किताबो में उनके बारे में पढ़ा जा सकता है|

निष्कर्ष

हिन्दू और हिंदुस्तान की वास्तविकता दोनों से पूरी तरह जुडी हुई है| जब जब हिंदुस्तान की बात की जायेगी तब तब हिन्दू सनातन धर्म की भी बात की जाएगी| हिन्दू से ही हिन्दुतान का मान साबित होता है हिन्दू ने हिंदुस्तान के लिए हर उस काल में अपने जीवन का बलिदान दिया है| जो हिंदुस्तान में हिन्दू संस्कृति को बरकरार रखता है| इस लिए हिन्दुतान हिन्दू से ही पूरा होता है|


The Reality of Hindu and  Hindustan

Hindu  Dharma is one such religion which was first in the world. Whose history is more than 10 thousand years old. The evidence of which is still found somewhere or the other. Who has been able to reach from Sat Yuga to Treta Yuga to Dwapar Yuga to Kalyug. The importance of Hinduism has been explained in every era.

India is a country which is considered to be the seventh largest country in the world. Which the sea has surrounded by three more. Hindustan is that country. Where the deities themselves reside. Which proves itself right for Hinduism. There are many pilgrimage sites from Himalayas to Kanyakumari. Which is considered a symbol of faith of Hindus

The reality of both Hindu and Hindustan is completely connected with each other. India is a country in which every state has its own language, yet it is a symbol of unity in itself. Hindustan does not have only one language. It is only the official language of India. Hindi which is considered since the constitution came into force. The eyes of other countries remained on India since ancient times and even today the eyes of neighboring countries remain on the soil of India. India has faced many such attacks in its history, in which every effort was made to eradicate its existence, Hindu religion, but the grace of God and the rites of the ancestors never allowed the Hindu to bow down. Because the Hindus living in India have always adopted the refugees of other religions who have come under his shelter.

Hinduism used to be expressed all over the earth earlier, whose remains are still found somewhere in any country other than India. The meeting of idols of gods and goddesses of Hindu religion is proof of the fact that Hindu religion used to be expressed in many countries of the earth, which today is the only religion in the world whose history can be read from anywhere, it expresses Hindutva. | Hinduism believes that the creation of the universe has taken place, in which God is considered to be the source of the soul and this work has been done for many ages. In which it has been told that from the darkness, the sky, the air from the sky, the fire from the air, the water from the fire and the water from the water, the earth, water, air, fire, sky, mind, intellect are the forms of nature in which the Hindu religion is called can be seen in its entirety.

Thought of Hindu and  ​​Hindustan

Hinduism is not an idea, it is a fact of reality. In which a person comes to know that what is the purpose of his birth, there are many such scriptures in Hindu religion which can make a person aware of his previous birth, one of which is astrology, in which a person can know the whole reality of his life. 

The idea of ​​India remained in the mind of human beings for many thousands of years, which even today seems to be proving somewhere or the other, the land of India is blessed with nature, in which the idea of ​​living life very easily appears to have originated from India. Many countries have originated, which were earlier a part of India, where even today the Shakti Peeth temples of Hinduism can be seen. 

Hindu and Hindustan never react to any other religion, because somewhere those religions were originated from Hinduism. Was taken out And even today the world is working on this knowledge to solve the riddles of the universe. One such form of nature is found on the soil of India. Which is nowhere to be seen.

If we look at the history of Hindu religion, then according to religious beliefs, there is a religious text. In which Hindu religion has been explained in reality, the stories of Ramayana, Mahabharata Puranas, in which the evidence of the origin of Hinduism is found. Mention of the tradition of Sun and Chandravansi kings is also available.

Importance of Hindu and Hindustan

Hindu Sanatan Dharma which is a religion in itself which has been going on for many ages. Whose reality itself makes a person religious. To understand the word Hindu, a person can read and understand the Vedas and know that how the Brahmin was born, in which God Himself has established every subject matter which in itself is related to each other. Which proves that the existence of man can be proved only by the guidance of Hindu religion, the origin of Hindu religion was done by God himself. In which several stages have been told. That God himself had created this Brahmin by taking birth in Hindu religion. In Hinduism, fire from sky, air from air, earth from air, water from earth and life from water. Which complete the process of telling the different elements.

 

Hindustan is known as Bharat. The importance of India is believed to be in the whole world, India is comprised of population from east to west, north to south. India shares border with 7 countries. There are many states of India which are similar to East Asia, whose language works to connect two countries. It represents from the Indus River to the Indian Ocean originating from India. Hindustan has always been considered a religious country where Hindu deities are seen celebrating festivals every day. Hindustan is that place of faith. Where man finds the way of salvation. People of all caste religions reside in India. India has faced external invasions in each of its eras, the country with the second largest population of the world is India. In which people who believe in different religions have been residing. Many rivers originate from India, which get absorbed in the sea giving life to a large population. There are many interesting elements in the history of India, to know which can be read about them in different books.

The Conclusion

The reality of Hindu and Hindustan is completely connected with both. When Hindustan is talked about, then Hindu Snatan Dharma will also be talked about. The value of Hindustan is proved by the Hindu itself, the Hindu has sacrificed his life for India in every that period. Which preserves Hindu culture in India. That's why Hinduism is complete from Hindu itself.

    


Comments

Popular posts from this blog

Reality of Religion (धर्म की वास्तविकता ) by Neeraj kumar

                                    Reality of Religion Reality Religion is very important in our life. The reality of religion teaches us that a person can walk on the path of religion, if he wants, he can become a religious guru. We have to study from birth to death while following religion. Religion can also give us mental and spiritual peace if it follows the right path of religion . The real knowledge of religion can be obtained from the culture of that person, the rites which have affected that person. There are different places in the world to walk on the path of religions, which tells us that if we want to receive God's grace, then we have to walk the path of religion. We cannot get any blessing from God without becoming religious. Thought of  Religion Ever since humans started taking the name of God in the world, religion has arisen and humans want to get God's blessings through their own religion. There are different religions in the world, the ways of those religio

Reality of Rites and culture(संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संस्कार और संस्कृति की वास्तविकता वास्तविकता   संस्कार ऐसे होने चाहिए जिससे इन्सान की संस्कृति की पहचान होती हो | संस्कार एक ऐसी रूप रेखा जिससे इन्सान की संस्कृति झलकती है की वो किस संस्कृति से जुडा इन्सान है संस्कार ही इन्सान के व्यक्तित्व को निर्धारित करते है जो सामने वाले  पर कितने प्रभाव डालते है जब भी संस्कारो की बात आती है तो सबसे पहले उन इन्सानो की संस्कृति को देखा जाता है की वो किस संस्कृति से जुड़ा है संस्कार और संस्कृति से जुड़े उन इंसानों को आसानी से पहचान सकते है जिन्होंने देश और दुनिया में अपनी पहचान बनाई समाज कल्याण मार्गो पर चलने का रास्ता दुनिया को दिखाया| जिससे उनकी संस्कृति की एक पहचान बनी| इन्सान की पहचान में एक बड़ी भूमिका उसके संस्कारो की होती है जो उसकी संस्कृति को दर्शाती है|दुनिया में पहनावे से भी इंसानो की संस्कृति की पहचान असानी से हो जाती है। संस्कार और संस्कृति का विचार कहते है संस्कार वो धन है जो कमाया नहीं जाता ये इन्सान को उसके परिवार उसके समाज   से विरासत में ही मिलता है जिस परिवार में वो इन्सान जन्म लेता है उस इन्सान की परवरिश और उसके संस्कार

Reality of Love(प्यार की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

                                                      प्यार की वास्तविकता, वास्तविकता   प्यार एक ऐसा एहसास है जिसको समझने के लिए हमें प्यार के रास्ते पर चलना होगा| प्यार ही इन्सान के जीवन की यात्रा होनी चाहिए बिना प्यार के जीवन का कोई आधार नहीं है हम किस तरह अपने प्यार के एहसास को महसूस कर सकते है हमें ये उन इंसानों से सीखना होगा जो प्यार को किसी के लिए महसूस करते है|  प्यार का एहसास कब और क्यों होता है? प्यार उसको कहते है, जब कोई इन्सान दुसरे के लिए वो एहसास को महसूस करने लगे की वो भी उसको बिना देखे या बात करे नहीं रह सकता तो हम उसको प्यार कह सकते है| प्यार के एहसास , को जानने और समझने के लिए हमें प्यार के बारे में विस्तार से पढना होगा ताकि जब हमें किसी से प्यार हो या किसी को हम से प्यार हो तो हम उस एहसास को महसूस करके समझ सके|   प्यार  के   एहसास पर विचार    प्यार दो दिलो का सम्बन्ध है, जो किसी को भी किसी से हो सकता है| जब कोई इन्सान किसी दुसरे के लिए हर उस बात को मानने लगे और उस एहसास में उसका कोई लालच ना छुपा हो और वो उसको अपने कार्यो में मददगार पाए और हम इस बात को अच्छे से जान प